सबसे खतरनाक जहाज: मिनटों में दुश्मनों को करेंगे नष्ट, कांपा पाकिस्तान और चीन

नौसेना में कई मारक एयरक्राफ्ट और दमदार पनडुब्बियों को शामिल किया गया। इन एयरक्राफ्ट और पनडुब्बियों की ताकत को अन्य देश भी बेहत जानते हैं।

सबसे खतरनाक जहाज: (photo Social media)

लखनऊ: आज भारतीय नौसेना दिवस हैं। ऐसे में इंडियन नेवी के बारे कुछ बातें जान लेना बेहद अहम हैं, वो भी ऐसे वक्त में जब हाल के दिनों में भारत के पड़ोसी देशों चीन, पाकिस्तान और नेपाल से रिश्तों में तनाव बढ़ गया है। दरअसल, हम भले ही चीन को ताकतवर देशों में गिनते हो लेकिन भारतीय नौसेना का दमखम इस बार से साबित होता है हमारी नौसेना के पास ऐसे दमदार पानी के जहाज, पनडुब्बियां हैं, जिससे चीन और पकिस्तान भी टक्कर लेने में एक बार जरूर सोचेंगे।

4 दिसंबर को क्यों मनाते हुए इंडियन नेवी डे :

दरअसल, आज के दिन नौसेना दिवस के तौर पर मनाने के पीछे भी भारत के पराक्रम और जीत की कहानी है। साल 1971 में भारतीय नौसेना ने पाकिस्तान के खिलाफ ‘ट्राइडेंट ऑपरेशन’ की शुरुआत की थी। इसके पीछे पाकिस्तान के नापाक इरादों को खत्म करना था। भारतीय नौसेना ने इस ऑपरेशन के तहत पाकिस्तानी नौसेना के कराची मुख्यालय पर हमला करके उसे नष्ट कर दिया था। भारत ने जब पाकिस्तान को इतनी करारी चोट थी तो न केवल पाकिस्तान भारत के सामने टूट गया बल्कि दुनिया के अन्य देशों के सामने भारतीय नौसेना की ताकत भी जाहिर हो गयी। इसी जीत और पराक्रम की याद में हर साल 4 दिसंबर को भारतीय नौसेना दिवस मनाया जाता है।

ये भी पढ़ेंः आसमान से आई तबाही: उल्कापिंड से थर-थर कांपी दुनिया, दिखा धरती का अंत

आजादी के बाद से अब तक भारत ने अपनी तीनो शक्तियों (थल-जल और वायु सेना) को बेहद ताकतवर बनाने की कोशिश की। नौसेना में कई मारक एयरक्राफ्ट और दमदार पनडुब्बियों को शामिल किया गया। इन एयरक्राफ्ट और पनडुब्बियों की ताकत को अन्य देश भी बेहत जानते हैं। इनमे INS Mysore, INS Vikrant, INS Chakra, INS Arihant और INS Vikramaditya जैसे एयरक्रॉफ्ट और पनडुब्बियों शामिल हैं

ये हैं भारतीय नौसेना के ताकतवर जहाज:

आईएनएस विक्रमादित्य-

भारतीय नौसेना ने इसे साल 2013 में अपने बेड़े में शामिल किया था। विक्रमादित्य एक मॉडिफाइड कीव-श्रेणी का विमान वाहक है। ये विमानवाहक पोत भारतीय नौसेना का प्रमुख है। इसकी ताकत 45,000 टन की है। इस जहाज की ख़ास बात है कि इसमें 30 से अधिक विमानों को तैनात किया जा सकता है। इसके अलावा विक्रमादित्य में शक्तिशाली सेंसर, कमांड और नियंत्रण सुविधाएं भी हैं।

ये भी पढ़ेंः भारत ने 10 आकाश मिसाइलों का किया सफल परीक्षण,दुश्मनों के लिए बनेंगी काल

आईएनएस अरिहंत-

भारतीय नौसेना की पहली और एकलौती परमाणु संचालित बैलिस्टिक मिसाइल पनडुब्बी है। इसकी खासियत है कि ये पनडुब्बी जमीन, हवा और समुद्र से परमाणु हमला करने की क्षमता रखती है। ये अन्य देशों के परमाणु हमलों से भारत को बचाने का काम करने में सक्षम है।

आईएनएस विक्रांत-

देश में बनने वाला पहला विमान वाहन विक्रांत है। विक्रांत को भारत निर्मित एयरक्रॉफ्ट कैरियर 1 के नाम से भी पहचाना जाता है।

ये भी पढ़ेंः करोड़ों की मालकिन: बनी देश की सबसे अमीर महिला, इतनी बनाई संपत्ति

आईएनएस चक्र-

भारत की एकमात्र परमाणु हमला करने वाली पनडुब्बी INS चक्र है। इसे रूस से लीज पर लाया गया है। इसकी खासियत है कि यह 12,000 टन की पनडुब्बी समुद्र के अंदर 30 नॉट से अधिक की रफ्तार से यात्रा कर सकती है। ये पनडुब्बी दुश्मन के युद्धपोतों को बेअसर कर सकती है।

आईएनएस मैसूर

भारतीय नौसेना में आईएनएस मैसूर को 29 अगस्त 1957 में शामिल किया गया था। पश्चिमी बेड़े के संचालन में इसका उत्कृष्ट योगदान रहा है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App