आतंकियों की आडियो क्लिप से खुलासा, इस तारीख को भारत पर बड़ा हमला!

गणतंत्र दिवस यानी 26 जनवरी पर आतंकियों ने राष्ट्रीय राजमार्ग से सटे सैन्य शिविरों को दहलाने की साजिश रची है। सुरक्षा एजेंसियों को जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों की बातचीत का एक ऑडियो हाथ लगा है।

नई दिल्ली: गणतंत्र दिवस यानी 26 जनवरी पर आतंकियों ने राष्ट्रीय राजमार्ग से सटे सैन्य शिविरों को दहलाने की साजिश रची है। सुरक्षा एजेंसियों को जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों की बातचीत का एक ऑडियो हाथ लगा है।

जिससे राष्ट्रीय राजमार्ग पर बड़े आतंकी हमले की साजिश का खुलासा हुआ है। खुफिया एजेंसियों को मिले इनपुट के बाद सभी सैन्य शिविरों की सुरक्षा को और भी बढ़ा दिया गया है। उधर, गणतंत्र दिवस के मद्देनजर सभी एजेंसियां हाई अलर्ट पर हैं।

सूत्रों के अनुसार सुरक्षा एजेंसियों के हाथ जैश के कमांडर अब्दुल मनन उर्फ डॉक्टर का ऑडियो लगा है। जो वर्तमान में पाकिस्तान में सियालकोट के दसका में डेरा डाले हुए है।

बातचीत में ओजीडब्ल्यू द्वारा आतंकियों की मदद और उन्हें सुरक्षित रास्ता मुहैया करवाने के लिए हाईवे पर किसी दुकान के खोलने के बारे में जानकारी ली गई है। हाईवे की वर्तमान स्थिति सहित इंटरनेट कनेक्शन के संबंध में भी इनपुट लिया गया है।

वहीं डोडा जिले में हिजबुल आतंकियों की वर्तमान स्थिति भी जानने की कोशिश का भी खुलासा हुआ है। सुरक्षा एजेंसियों ने इनपुट साझा कर सभी सैन्य क्षेत्रों को भी अलर्ट रहने को कहा है। आतंकी जंगलोट सैन्य शिविर समेत अन्य सैन्य प्रतिष्ठानों को निशाना बना सकते हैं।

महाराष्ट्र में घमासान! अब फोन टैपिंग में सरकार परेशान, जानें क्या है मामला

जंगलोट सैन्य कैंप के नजदीक तीन आतंकियों को किया गया था ढेर

ज्ञात रहे कि 28 मार्च, 2014 को भी फिदायीन आतंकियों का दल दियालाचक में तरनाह नाले के नजदीक से एक वाहन को हाईजैक करने के बाद जंगलोट सैन्य कैंप पर हमले की फिराक में था।

जंगलोट सैन्य कैंप के नजदीक घंटों चली मुठभेड़ में तीन आतंकियों को ढेर किया गया था। इस हमले में दो नागरिकों की मौत हो गई थी, जबकि एक सैन्य जवान शहीद हुआ था। वहीं दो जवानों के साथ चार अन्य घायल हुए थे।

EC का सुप्रीम कोर्ट को सुझाव, कहा- अपराधियों को न मिले टिकट

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App