×

दिल्ली में बवाल: बुरी तरह भिड़े पुलिस से छात्र, 35 लोग घायल

सोमवार सुबह को जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्रों और स्थानिय नागिरकों समेत सैकड़ों प्रदर्शनकारियों संसद की ओर मार्च निकालने वाले थे, तभी ये मार्च रोकने का प्रयास कर रही पुलिस के साथ उनकी भिड़ंत हो गई।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 11 Feb 2020 5:32 AM GMT

दिल्ली में बवाल: बुरी तरह भिड़े पुलिस से छात्र, 35 लोग घायल
X
दिल्ली में बवाल: बुरी तरह भिड़े पुलिस से छात्र, 35 लोग घायल
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: सोमवार सुबह को जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्रों और स्थानिय नागिरकों समेत सैकड़ों प्रदर्शनकारियों संसद की ओर मार्च निकालने वाले थे, तभी ये मार्च रोकने का प्रयास कर रही पुलिस के साथ उनकी भिड़ंत हो गई। इस धक्का मुक्की में 35 छात्र घायल हुई हैं। जिनमें से 25 छात्रों का प्राइवेट हेल्थ सेंटर में इलाज चल रहा है।

जेसीसी के नेतृत्व में निकाली गई रैली

वहीं छात्रों से मिलने पहुंची जामिया यूनिवर्सिटी की वाईस चांसलर नजमा अख्तर अल शिफा के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। जामिया के छात्रों और पूर्व छात्रों के संगठन जामिया समन्वय समिति (जेसीसी) ने मार्च का आह्वान किया था। बता दें कि जामिया के छात्र और जामिया नगर के निवासी समेत सैकड़ों लोग नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के खिलाफ संसद की ओर मार्च निकालने वाले थे।

यह भी पढ़ें: AAP का साथ छोड़ने वाले ये नेता: जानें, दिल्ली चुनाव में आज क्या हुआ इनका हाल…

प्रदर्शनकारियों को नहीं थी मार्च निकालने की कोशिश

पुलिस के मुताबिक, प्रदर्शनकारियों को संसद की ओर मार्च निकालने की परमिशन नहीं दी गई थी। यूनिवर्सिटी के आसपास भारी संख्या में सुरक्षाकर्मियों की तैनाती की गई थी। प्रदर्शनकारियों ने जामिया के गेट नंबर 7 से अपना मार्च निकाला। तभी पुलिस की तरफ से छात्रों से मार्च को खत्म करने की अपील की गई। लेकिन प्रदर्शनकारी रुकने के लिए तैयार नहीं थे। प्रदर्शनकारी जोर-जोर से ‘कागज नहीं दिखाएंगे’ और ‘जब नहीं डरे हम गोरों से तो क्यों डरे हम औरों से’ जैसे नारे लगा रहे थे।

यह भी पढ़ें: मौत के मंजर से डरा ये देश, अब कैसे बचेगा इस खतरनाक वायरस से

प्रदर्शन में शामिल लोगों का क्या कहना है?

वहीं इस प्रदर्शन में कई महिलाएं भी शामिल थीं। प्रदर्शन में शामिल एक महिला ने कहा कि हम दो महीने से प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन सरकार की तरफ से हमसे कोई बात करने के लिए नहीं आया, इसलिए हम खुद उनके पास जाना चाहते हैं। पुलिस ने जब इस मार्च को रोकने की कोशिश की तो छात्रों और पुलिस के बीच धक्का-मुक्की हो गई और इसमें कई छात्र घायल हो गए। कई प्रदर्शकारियों ने बैरिकेड को पार भी किया।

यह भी पढ़ें: अभी-अभी पेट्रोल में भारी गिरावट, दिल्ली रिजल्ट आते ही मिली बड़ी खुशखबरी

Shreya

Shreya

Next Story