सैंट्रो कार में विस्फोटक सामग्री लेकर भारत पर हमला करने के लिए दाखिल हुए आतंकी

आज की बड़ी खबर जम्मू कश्मीर से आ रही है। यहां सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। सुरक्षा बल के जवानों ने पुलवामा जिले में समय रहते आईईडी को ट्रैक कर उसे डिफ्यूज कर दिया। इसे एक गाड़ी के अंदर छिपाकर प्लांट किया गया था।

Published by Aditya Mishra Published: May 28, 2020 | 11:46 am
Modified: May 28, 2020 | 12:48 pm
फ़ाइल फोटो

फ़ाइल फोटो

जम्मू: आज की बड़ी खबर जम्मू कश्मीर से आ रही है। यहां सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। सुरक्षा बल के जवानों ने पुलवामा जिले में समय रहते आईईडी को ट्रैक कर उसे डिफ्यूज कर दिया। इसे एक गाड़ी के अंदर छिपाकर प्लांट किया गया था।

बताया जा रहा है कि गाड़ी में बड़ी मात्रा में विस्फोटक सामग्री थी अगर इसे समय रहते निष्क्रिय नहीं किया गया होता तो इसमें ब्लास्ट हो जाता और बड़ी संख्या में जान माल का नुकसान होता। फिलहाल सुरक्षा बलों की मुस्तैदी से इस बड़े खतरे को टाल दिया गया।

जम्मू-कश्मीर: पुंछ के बालाकोट सेक्टर में पाकिस्तान ने तोड़ा सीजफायर, दागे मोर्टार

डीजीपी दिलबाग सिंह ने दी घटना की जानकारी

इस मामले में जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने मीडिया के सामने जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि पिछले तीन-चार दिनों से इनपुट मिल रहा था। कुछ नाके पर सैंट्रो कार रुकी नहीं थी, जिसके बाद शक गहरा हुआ। इसके अलावा भी आईईडी होने का इनपुट मिला था, जिसके बाद पूरी तरह से चेकिंग बढ़ा दी गई थी।

अब जबकि आईईडी को निष्क्रिय किया जा चुका है तो इस मामले की जांच एनआईए को सौंप दी गई है। एनआईए की एक टीम इस इलाके जल्द दौरा करेगी।

गौरतलब है कि जिस गाड़ी में विस्फोटक सामग्री पाई गई थी वो एक सफेद रंग की सैंट्रो गाड़ी थी। जिस पर टू व्हीलर की नंबर प्लेट लगाई गई थी, जो कठुआ से ट्रैस की गई है। ऐसे में आतंकियों की ओर से पूरी कोशिश की जा रही थी कि सुरक्षाबलों को चकमा देकर इस आतंकी हमले को अंजाम दिया जाए।

 

जम्मू-कश्मीर के IG ने CRPF पर खड़े किए सवाल, मचा बड़ा बवाल

पुलिस, सीआरपीएफ समेत अन्य सुरक्षाबलों की मुस्तैदी से टला हमला

जम्मू-कश्मीर पुलिस, सीआरपीएफ समेत अन्य सुरक्षाबलों की ओर से इस एक्टिविटी को एक साथ चलाया गया। इस गाड़ी को साउथ कश्मीर के पुलवामा जिले में रजपुरा रोड के पास पकड़ा गया।

यहां गांव के इलाके के पास गाड़ी को रोका गया, फिर बम डिस्पोज़ल स्क्वायड को बुलाया गया। इस दौरान जहां गाड़ी के आसपास के इलाके को, घरों को खाली करवा दिया गया।

जब विस्फोटक को निष्क्रिय किया गया, तो धमाके की आवाज सुनाई दी हुआ। इस दौरान सिर्फ गाड़ी में नुकसान हुआ, किसी अन्य प्रकार की कोई हानि नहीं हुई।

जम्मू-कश्मीर: हंदवाड़ा मुठभेड़ में 2 अफसर समेत 5 जवान शहीद