बड़ी खबर! जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल का बड़ा ऐलान, पूरी दुनिया को होगी खुशी

जम्मू-कश्मीर (Jammu kashmir) के सामान्य स्थिति में लौटने की दिशा में राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने एक बड़ा फैसला लिया। राज्यपाल ने सोमवार को दो महीने पहले जारी की गई ट्रैवल एडवाइजरी को वापस ले लिया।

बड़ी खबर! जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल का बड़ा ऐलान, पूरी दुनिया को होगी खुशी

बड़ी खबर! जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल का बड़ा ऐलान, पूरी दुनिया को होगी खुशी


जम्मू-कश्मीर: जम्मू-कश्मीर (Jammu kashmir) के सामान्य स्थिति में लौटने की दिशा में राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने एक बड़ा फैसला लिया। राज्यपाल ने सोमवार को दो महीने पहले जारी की गई ट्रैवल एडवाइजरी को वापस ले लिया।

यह ट्रैवेल एडवाइजरी आर्टिकल 370 (Article 370) और आर्टिकल 35ए (Article 35 a) हटाए जाने से पहले पर्यटकों के घाटी छोड़ने संबंधी लगाया गया था। इस ट्रैवल एडवाइजरी में कहा गया था कि पर्यटक जल्द से जल्द घाटी छोड़ दें।

लेकिन अब इसके हटने के बाद पूरी दुनिया घाटी में जाकर वहां की ख़ूबसूरती देख सकेगी।

पढ़ें…

आर्टिकल-370: जम्मू-कश्मीर का 64 डेज ऑफ शटडाउन, JNU में आज विरोध-प्रदर्शन

जम्मू-कश्मीर: पुंछ में पाकिस्तान ने फिर तोड़ा सीजफायर, सेना ने दिया करारा जवाब


पर्यटकों को राज्य में लौटने की अनुमति:

सोमवार रात जारी किए गए आदेश के अनुसार, पर्यटकों को राज्य में लौटने की अनुमति दे दी गई है। यह आदेश 10 अक्टूबर से लागू होगा।

जम्मू और कश्मीर प्रशासन के सूचना विभाग ने ट्वीट किया कि ‘राज्यपाल  सत्य पाल मलिक ने सोमवार को सलाहकारों और मुख्य सचिव के साथ सुरक्षा समीक्षा बैठक आयोजित की।

राज्यपाल ने गृह विभाग के सलाहकार से कहा कि पर्यटकों के  घाटी छोड़ने के आदेश को वापस लिया जाए। यह 10.10.2019 से लागू किया जाएगा।’


लैंडलाइन सेवाएं शुरू:

सरकार ने राज्य से आर्टिकल 370 हटाने के लिए पर्यटकों से कहा था कि वह घाटी छोड़ दें। इतना ही नहीं फोन और इंटरनेट लाइनों को अवरुद्ध करने जैसे बड़े पैमाने पर सुरक्षा प्रतिबंध लगा दिए थे।

जबकि कुछ कर्फ्यू को धीरे-धीरे राहत दी है।

कश्मीर घाटी में मोबाइल और इंटरनेट संचार काफी हद तक बंद है, हालांकि लैंडलाइन सेवाएं शुरू कर दी गई हैं।

पढ़ें…

जम्मू-कश्मीरः आज फारूक और उमर अब्दुल्ला से नेशनल कांफ्रेंस के नेता करेंगे मुलाकात

ग्रेनेड हमले से दहला जम्मू-कश्मीर: 10 लोग घायल, सेना ने संभाला मोर्चा