कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार की हो गई विदाई, एक और राज्य से कांग्रेस का सफाया

कर्नाटक में चल रहा राजनीतिक संकट आज यानी मंगलवार को खत्म हो गया है। प्रदेश में कुमारस्वामी सरकार फ्लोर टेस्ट में फेल हो गई है। इसी के साथ कांग्रेस-जेडीएस की सरकार का गिर गई। विश्वास मत के पक्ष में 99 वोट पड़े और  खिलाफ 105 वोट पड़े।

बेंगलुरु: कर्नाटक में चल रहा राजनीतिक संकट आज यानी मंगलवार को खत्म हो गया है। प्रदेश में कुमारस्वामी सरकार फ्लोर टेस्ट में फेल हो गई है। इसी के साथ कांग्रेस-जेडीएस की सरकार का गिर गई। विश्वास मत के पक्ष में 99 वोट पड़े और  खिलाफ 105 वोट पड़े। तो वहीं वोटिंग से पहले ही बेंगलुरु में अगले 48 घंटे के लिए धारा 144 लगा दी गई है। सभी पब, शराब की दुकानें 25 तारीख तक बंद रखी जाएंगी। अगर कोई भी इन नियमों का उल्लंघन करता हुआ पाया जाता है, तो उन्हें दंडित किया जाएगा।

कुमारस्वामी की सरकार गिरने के बाद बीजेपी खेमे में खुशी देखी गई। विधानसभा के बाहर बीजेपी कार्यकर्ता जश्न मनाते दिखे। उधर सदन में पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा विक्टरी साइन दिखाते हुए नजर आए। उनके साथ बीजेपी के सभी विधायक मौजूद दिखे।

यह भी पढ़ें…योगी सरकार ने पेश किया 13,594 करोड़ का अनुपूरक बजट, किए ये बड़े ऐलान

विश्वास प्रस्ताव पर बोलते हुए मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने भावुक दिखे। सदन में मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने कहा कि स्पीकर सर अगर आप दुखी हुए हैं तो मैं आपसे माफी मांगता हूं। मैं कर्नाटक की जनता से भी माफी मांगना चाहता हूं। मैं पिछले 10 दिनों के घटनाक्रम के बारे में बात नहीं करूंगा। कृष्णा बायरेगौड़ा पहले ही कानूनी, संवैधानिक स्थिति के बारे में बात कर चुके हैं।

सदन में उन्होंने कहा कि आज की तरह ही 2004 में किसी के पास बहुमत नहीं था। उन्होंने कहा कि मैं विपक्ष के नेताओं को बताना चाहता हूं जो उन्हें सोशल मीडिया पर पोस्ट करने वाले अपने कार्यकर्ताओं को बताना चाहिए। सोशल मीडिया ने समाज को बर्बाद कर दिया है। सोशल मीडिया पर लोग कहते हैं कि मैं ताज वेस्ट एंड में रह रहता हूं और लोगों को लूट रहा हूं। मैं वहां क्या लूटूंगा?

यह भी पढ़ें…कश्मीर पर अमेरिका के इस बयान के बाद जरूर शर्मिंदा होंगे राष्ट्रपति ट्रंप

कुमारस्वामी ने आगे कहा कि मैं इस सरकार को बचाने और बचाने की भरपूर कोशिश कर रहा था। मुख्यमंत्री ने कहा कि क्या त्रासदी! क्या उन लोगों में कोई मानवता है जो सोशल मीडिया पर हैं? हम कहां पहुंचे गए हैं? मैं बहुत संवेदनशील और भावनात्मक व्यक्ति हूं। जब मैंने अपने खिलाफ रिपोर्ट देखी तो मुझे आश्चर्य हुआ कि क्या मुझे इसके लिए मुख्यमंत्री होना चाहिए। मुझे दुख है, मैं खुशी खुशी इस पद को छोड़ सकता हूं।