×

विदेश मंत्रालय ने क्यों कहा- पाकिस्तान अगर मदद मांगता है तो विचार किया जाएगा...

विदेश मंत्रालय ने  बुरी तरह प्रभावित चीन के शहर वुहान से भारतीयों को सुरक्षित निकालने के अभियान को जटिल बताते हुए चीन सरकार की तरफ से मिले सहयोग के लिए उसकी तारीफ की है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने गुरुवार को प्रेस से कहा कि

suman

sumanBy suman

Published on 6 Feb 2020 4:28 PM GMT

विदेश मंत्रालय ने क्यों कहा- पाकिस्तान अगर मदद मांगता है तो विचार किया जाएगा...
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली विदेश मंत्रालय ने बुरी तरह प्रभावित चीन के शहर वुहान से भारतीयों को सुरक्षित निकालने के अभियान को जटिल बताते हुए चीन सरकार की तरफ से मिले सहयोग के लिए उसकी तारीफ की है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने गुरुवार को प्रेस से कहा कि भारत ने 2 उड़ानों के जरिए चीन से 640 भारतीयों और मालदीव के 7 नागरिकों को सुरक्षित निकाला। इस दौरान उनसे जब पूछा गया कि चीन में फंसे कुछ पाकिस्तानी भारत सरकार से मदद की अपील की है तो क्या इस पर कोई चर्चा हुई है तो कुमार ने कहा कि पाकिस्तान ने ऐसा कोई अनुरोध नहीं किया है। अगर ऐसी सिचुएशन बनती है तो इस पर जरूर विचार किया जाएगा।

यह पढ़ें..किसानों के मुद्दे पर योगी सरकार को घेरेगी कांग्रेस, बनाया ये बड़ा प्लान

विदेश मंत्रालय की प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एक पत्रकार ने चीन के वुहान शहर में फंसे लोगों को लेकर पूछा, 'वहां पर जो पाकिस्तानी स्टूडेंट फंसे हुए हैं, वीडियो देख रहे थे उसमें उन्होंने बोला कि मोदी है तो मुमकिन है, मोदी जिंदाबाद...और उन्होंने बोला कि अगर पाकिस्तान गवर्नमेंट हमें नहीं ले जा रही है तो भारत सरकार हमारी मदद करे तो क्या आप लोगों ने क्या इस पर चर्चा की है, कोई विचार?'

इस सवाल के जवाब में रवीश कुमार ने कहा, 'फिलहाल तो पाकिस्तान सरकार की तरफ से ऐसा कोई हमारे पास रिक्वेस्ट आया नहीं है लेकिन अगर ऐसी सिचुएशन बनती है और अगर हमारे पास रिसोर्सेज हैं तो हम इस पर जरूर विचार करेंगे।'

यह पढ़ें...खुशखबरी! यूपी में खुलेंगे सरकारी प्री-प्राइमरी स्कूल, होगी ये ख़ास व्यवस्था

करॉना वायरस की वजह से चीन से आने वाले लोगों के लिए ई-वीजा पर अस्थायी तौर पर रोक के बारे में कुमार ने कहा कि वीजा संबंधी पाबंदियां सिर्फ चाइनीज मेनलैंड के लिए हैं। उन्होंने कहा, 'चीन के लोगों को दिए गए सभी मौजूदा ई-वीजा अब वैध नहीं हैं। इसी तरह जो नॉर्मल वीजा इश्यू हुए हैं वे भी अब वैलिड नहीं हैं। अगर ऐसा व्यक्ति जिसके पास भारत आना बहुत ही ज्यादा जरूरी है तो वह हमारे दूतावास या नजदीकी कॉन्सुलेट से संपर्क कर वीजा के लिए अप्लाइ कर सकता है।' इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि भारत और चीन के बीच कमर्शल फ्लाइटों पर सरकार की तरफ से कोई प्रतिबंध नहीं लगा है। उन्होंने साथ में कहा कि एयरलाइन कंपनियां जमीनी स्थिति का आकलन करते हुए इस बारे में खुद से फैसला लेने के लिए स्वतंत्र है।

suman

suman

Next Story