Top

केदारनाथ भक्तों को तोहफाः अब मिलेगा स्वच्छ गरम पेयजल, मंदिर परिसर में लगीं मशीनें

पैसेफिक सोसायटी के अध्यक्ष बी.एस.नेगी ने बताया कि निगमित सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत ओ.एन.जी.सी, एन.टी.पी.सी. महानदी कोल फीड्स लिमिटेड ने श्री केदारनाथ जी में एपीओ मशीनें लगाने के लिए सहायता प्रदान की है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 31 Oct 2020 12:41 PM GMT

केदारनाथ भक्तों को तोहफाः अब मिलेगा स्वच्छ गरम पेयजल, मंदिर परिसर में लगीं मशीनें
X
केदारनाथ भक्तों को तोहफाः अब मिलेगा स्वच्छ गरम पेयजल, मंदिर परिसर में लगीं मशीनें
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

देहरादून। भक्तों ने भक्तों की समस्या को ध्यान में रखते हुए पैसेफिक क्रिएटिव सोसायटी ने एक महत्वपूर्ण पहल करते हुए श्री केदारनाथ मंदिर प्रांगण में पधारने वाले तीर्थयात्रियों को स्वच्छ गरम पेयजल उपलब्धके कराने के लिये शुक्रवार को चार 500 एलपीएच एपीओ मशीनें स्थापित की है।

भक्तों को मिलेगा गरम पेय जल

यह जानकारी देते हुए पैसेफिक सोसायटी के अध्यक्ष बी.एस.नेगी ने बताया कि निगमित सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत ओ.एन.जी.सी, एन.टी.पी.सी. महानदी कोल फीड्स लिमिटेड ने श्री केदारनाथ जी में एपीओ मशीनें लगाने के लिए सहायता प्रदान की है। नेगी ने बताया कि श्री केदारनाथ मंदिर के उपरान्त श्री बद्रीनाथ मन्दिर में भी जल्द मशीनें लगाई जायेगीं।

ये भी देखें: कंगना रनौत अब गांधी नेहरू पर बिफरीं, मौका था पटेल जयंती का

एनजीओ रोजगार का काम भी करती है

पैसेफिक क्रिएटिव सोसायटी एक एनजीओ है जो कई सामाजिक, शैक्षणिक, स्वास्थ्य, पेयजल और स्वच्छता गतिविधियों में लगी हुई है। विशेष रूप से समाज के गरीब और हाशिए के लोगों के लिए व्यापार मेलों का आयोजन करके रोजगार का सृजन करती है। यह संपूर्ण रूप से व्यक्तियों और समुदाय को मानवीय मूल्यों को महत्व देते हुए धर्मनिरपेक्ष प्रिंसिपल और दृष्टिकोण के साथ काम करता है। इसका जोर सामुदायिक भागीदारी और समुदाय आधारित कार्यक्रमों पर है, जो वंचित लोगों के जीवन को आकार देने के लिए है।

kedarnath tempal-2

ये भी देखें: बीजेपी को झटका: इस दिग्गज नेता के पार्टी छोड़ने की अटकलें तेज़, ये है वजह

वाटर वेंडिंग मशीन दूर करेगा स्वच्छ पेयजल की समस्या

भारत में 1.52 मिलियन गाँव, 1, 85,813 पानी के रासायनिक प्रदूषण से प्रभावित हैं। 85% से अधिक घरेलू आपूर्ति वाले भूजल की गुणवत्ता कई क्षेत्रों में एक बड़ी समस्या है क्योंकि किसी भी नदी में पीने लायक पानी नहीं है। भारत में पीने का पानी आयरन, नाइट्रेट में अधिक है। COVID 19 की समस्या को हल करने के लिए पीएसयू, राज्य सरकारों और निजी दाताओं की मदद से सार्वजनिक, प्रशांत क्रिएटिव सोसायटी का स्वच्छ पेयजल पूरे भारत में वाटर वेंडिंग मशीन स्थापित कर रहा है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें

Newstrack

Newstrack

Next Story