×

वाह दादी माँ: सिर्फ 1 रुपए में दिखाया कमाल, नहीं देखी होगी ऐसी दरियादिली

लॉकडाउन के दौरान देशभर में कई लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। जहां हर तरफ लोग अपने पाई-पाई बचाने की कोशिश में हैं तो वहीं पर एक 85 वर्षीय दादी ने दरियादिली की मिसाल पेश की है।

Shreya
Published on: 10 May 2020 7:03 AM GMT
वाह दादी माँ: सिर्फ 1 रुपए में दिखाया कमाल, नहीं देखी होगी ऐसी दरियादिली
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

चेन्नई: कोरोना वायरस के चलते देश भर में लॉकडाउन लागू है। इस दौरान देशभर में कई लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। जहां हर तरफ लोग अपने पाई-पाई बचाने की कोशिश में हैं तो वहीं पर एक 85 वर्षीय दादी ने दरियादिली की मिसाल पेश की है। तमिलनाडु की रहने वाली ये दादी लॉकडाउन में भी लोगों की मदद खुले दिल से कर रही हैं।

पिछले कई सालों से बेच रही हैं इडली

तमिलनाडु के कोयंबटुर शहर से करीब 20 किलोमीटर दूर पेरुर के पास Vedivelampalayam गांव में रहने वाली 85 वर्षीय कमलाथल को सभी प्यार से दादी कहकर बुलाते हैं। वो पिछले कई सालों से महज एक रुपये में इडली बेचती है। जी हां, ये दादी केवल 1 रुपये में ही इडली के साथ सांभर और मसालेदार चटनी बेच रही हैं।

यह भी पढ़ें: आसमान से आएगा वायरस: धरती में मचेगी तबाही, कोरोना से भी ज्यादा खतरनाक

लॉकडाउन में भी पैसे ना बढ़ाने का किया फैसला

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, उन्होंने लॉकडाउन के इस मुश्किल दौर में लोगों की मदद करनी नहीं छोड़ी। लॉकडाउन के दौरान इतना नुकसान होने और दुकान बंद रहने के बाद भी उन्होंने इडली के दाम ना बढ़ाने का निश्चय किया।

1 रुपये में इडली खिलाकर लोगों की मदद करूंगी

उन्होंने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि कोरोना के इस दौर में हालात काफी मुश्किल भरे हैं। लेकिन मैं पूरी कोशिश कर रही हूं कि 1 रुपये में ही इडली दूं। उन्होंने आगे कहा कि कई मजदूर फंसे हुए हैं और बहुत लोग आते जाते रहते हैं। लोग उनकी मदद भी कर रहे हैं और मैं भी 1 रुपये में इडली खिलाकर लोगों की मदद करूंगी।

यह भी पढ़ें: गोरखपुर में गायब हो गए शराब पीने वाले, जानें क्या है वजह

30 साल से बेच रही हैं इडली

रिपोर्ट्स के मुताबिक, 85 वर्षीय कमलाथल ने करीब 30 साल से इडली बेच रही हैं। उन्होंने यह काम मुनाफा कमाने के लिए नहीं बल्कि लोगों का पेट भरने के लिए शुरू किया है। लॉकडाउन से पहले दादी हर रोज तकरीबन 1 हजार इडली बनाती हैं।

इसलिए इतने कम में बेचती हैं इडली

हैरान करने वाली बात तो ये है कि वो सारा काम खुद ही करती हैं। दिहाड़ी मजदूर और उनका परिवार आसानी से खाना खा सके इसलिए वो केवल एक रुपये में ही इडली बेचती हैं। जबकि आसपास के गांव में एक इडली की कीमता 6 रुपये है और डोसा 20 रुपये का मिलता है।

यह भी पढ़ें: KGMU को मिली बड़ी कामयाबी, अब ऐसे होगी कोरोना मरीजों की पहचान

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story