Top

MP: महिला जज को बर्थडे विश करना पड़ा भारी, वकील को हुई जेल, मामला पहुंचा HC

एक जज को जन्मदिन की बधाई देना वकील के लिए महंगा पड़ गया और जेल की सजा मिल गयी। दरअसल, मध्य प्रदेश में जज की अनुमति के बिना उनकी तस्वीर डाउनलोड करने और कथित तौर पर अभद्र कमेंट का इस्तेमाल करने के आरोप में एक वकील जेल में है।

Ashiki

AshikiBy Ashiki

Published on 2 March 2021 6:11 AM GMT

MP: महिला जज को बर्थडे विश करना पड़ा भारी, वकील को हुई जेल, मामला पहुंचा HC
X
MP: महिला जज को बर्थडे विश करना पड़ा भारी, वकील को हुई जेल, मामला पहुंचा HC
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

भोपाल: मध्य प्रदेश के एक छोटे से शहर का एक मामला इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है। यहां एक जज को जन्मदिन की बधाई देना वकील के लिए महंगा पड़ गया और जेल की सजा मिल गयी। दरअसल, मध्य प्रदेश में जज की अनुमति के बिना उनकी तस्वीर डाउनलोड करने और कथित तौर पर अभद्र कमेंट का इस्तेमाल करने के आरोप में एक वकील जेल में है।

ये भी पढ़ें: 5 लोगों को मिला जीवन: सेवाराम ने मरते-मरते बांटी खुशियां, खुद दुनिया से अमर

ये है आरोप

37 वर्षीय वकील विजय सिंह यादव पर आरोप है कि उन्होंने कथित तौर पर एक महिला न्यायिक मजिस्ट्रेट के फेसबुक अकाउंट से उनकी तस्वीर डाउनलोड की और जन्मदिन के मौके पर अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते हुए उन्हें जन्मदिन की बधाई दी। वकील विजय सिंह यादव के खिलाफ आईटी एक्ट समेत कई अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।

ये है पूरा मामला

जानकारी के मुताबिक यह मामला रतलाम जिले का है। जेल भेजे गए वकील पर आईटी एक्ट सहित तमाम अन्य कानूनी धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। मुकदमे के शिकायतकर्ता हैं रतलाम जिला अदालत के सिस्टम अफसर महेंद्र सिंह चौहान। यह मुकदमा थाना स्टेशन रोड में 8 फरवरी 2021 को दर्ज कराया गया है। इतना ही नहीं आरोपी वकील पर धोखाधड़ी, जालसाजी व प्रतिष्ठा को हानि पहुंचाने संबंधी कानूनी धाराएं भी लगाई गई हैं।

ये भी पढ़ें: BJP सांसद की मौतः कोरोना से थे संक्रमित, पीएम- सीएम शिवराज ने जताया शोक

इसलिए बात हाईकोर्ट तक पहुंची

पीड़ित वकील के परिजनों के अनुसार, 13 फरवरी को निचली अदालत ने वकील की जमानत की अर्जी खारिज कर दी थी। लिहाजा जमानत के लिए हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ा। मतलब अब हाईकोर्ट बेंच तय करेगी कि किसी वकील द्वारा महिला न्यायिक मजिस्ट्रेट को इस तरह से बधाई भेजने के मामले में, आरोपी को जमानत दी जानी चाहिए या नहीं।

Ashiki

Ashiki

Next Story