गजब: दूल्हे को टॉयलेट में तस्वीर खिंचाने पर मिलेंगे 51 हजार रुपये, जानें पूरा मामला

केंद्र सरकार देश में स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए मुहिम चला रही है। इसके तहत लोगों को अपने घरों में टॉयलेट (शौचालय) बनवाने के लिए सरकार तरह-तरह की योजनाएं चला रही है।

भोपाल: केंद्र सरकार देश में स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए मुहिम चला रही है। इसके तहत लोगों को अपने घरों में टॉयलेट (शौचालय) बनवाने के लिए सरकार तरह-तरह की योजनाएं चला रही है।

इसी कड़ी में मध्य प्रदेश सरकार भी लोगों को अपने घरों में शौचालय बनवाने के लिए बढ़ावा दे रही है। इसी के मद्देनजर सरकार ने एक योजना बनाई है। जो लोगों के बीच चर्चा का विषय बनी हुई है।

ये भी पढ़ें…अजब-गजब: इस गांव के लोग कई सालों से नहीं मनाते श्राद्ध, न देते हैं दान

दरअसल मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री कन्या विवाह या निकाह योजना का लाभ और 51 हजार रुपये उसी परिवार को मिलेगा जो अपने घर में बने टॉयलेट में खड़े होकर फोटो खिंचाकर सरकार को भेजेंगा। जो लोग ऐसा नहीं करेंगे उन्हें पैसा नहीं मिलेगा।

आपको बता दे कि इस योजना के तहत शादी के बाद दुल्हन को राज्य सरकार की तरफ से 51 हजार रुपये दिए जाते हैं।

इस स्कीम का फायदा लेने के लिए शादी के बाद दुल्हन को अपने हसबैंड के साथ ससुराल में नवनिर्मित शौचालय में खड़े होकर फोटो खिंचानी होगी और फिर उसे गवर्नमेंट दफ्तर में जमा करना होगा।

भोपाल में इन दिनों सरकार की ये स्कीम खासा चर्चा में है। इस योजना के तहत केवल उन्हीं लोगों के फ़ार्म स्वीकार किये जायेंगे जिनके घर होने वाले दूल्हे के घर में टॉयलेट हो। अधिकारी हर घर में जाकर खुद जांच करने की जगह ऐसी तस्वीरों की मांग कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें…अजब लुटेरों की गजब कहानी, नकली रिवाल्‍वर दिखा लूट लेते थे मुर्गियां, अरेस्‍ट

आवेदन बढ़े तो निकाला यह तरीका

बताते चले कि मुख्यमंत्री कन्या विवाह/निकास योजना आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग के लिए है। पिछले साल 18 दिसंबर को सरकार बनने के अलग दिन बाद कांग्रेस सरकार ने इस योजना के तहत आर्थिक राशि 28 हजार रुपये से बढ़ाकर 51 हजार रुपये कर दी थी।

इसके बाद से आवेदनों का संख्या में बेतहाशा वृद्धि हुई। अफसरों के लिए घर – घर जाकर टायलेट की पड़ताल करना मुश्किल हो रहा था। जिसके बाद से ये नया तरीका निकाला गया।

ये भी पढ़ें…अजब-गजब: एक ऐसा देश जहां पिता कर सकता है बेटी से शादी, पति को है रेप का हक