×

शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार 3 जनवरी को, इन नेताओं को मिल सकता है मंत्री पद

तुलसीराम सिलावट और गोविंद सिंह राजपूत, सिंधिया के बेहद करीबी माने जाते हैं। इतना ही नहीं इन दोनों नेताओं ने उपचुनाव से पहले मंत्री पद से त्याग पत्र दे दिया था।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 1 Jan 2021 9:25 AM GMT

शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार 3 जनवरी को, इन नेताओं को मिल सकता है मंत्री पद
X
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक तुलसीराम सिलावट और गोविंद सिंह राजपूत को शिवराज कैबिनेट में शामिल किया जा सकता है।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

सतना: मध्य प्रदेश में शिवराज कैबिनेट का विस्तार शपथ ग्रहण समारोह 3 जनवरी रविवार को 12:30 बजे राजभवन में हो सकता है।

फिलहाल राज्यपाल आनंदी बेन पटेल प्रदेश से बाहर हैं। लेकिन शनिवार शाम तक या रविवार सुबह उनके भोपाल वापस आने की संभावना है।

हालांकि अभी आधिकारिक तौर से शपथग्रहण का समय तय नहीं हुआ है। इसी दिन मध्य प्रदेश हाई कोर्ट के नव नियुक्त चीफ जस्टिस मोहम्मद रफीक को शपथ ग्रहण करेंगे ऐसी खबर है।

shivraj-singh-chauhan शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार 3 जनवरी को, इन नेताओं को मिल सकता है मंत्री पद(फोटो:सोशल मीडिया)

‘कोरोना वैक्सीन पर फतवा जारी करने वाले लोग मानवता के दुश्मन’: नकवी

जानिए किन –किन नेताओं को मिल सकता है मंत्रीपद

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक तुलसीराम सिलावट और गोविंद सिंह राजपूत को शिवराज कैबिनेट में शामिल किया जा सकता है।

मध्य प्रदेश में उपचुनाव के बाद से ही शिवराज सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं। इसे लेकर सीएम शिवराज सिंह चौहान दिल्ली का भी दौरा कर चुके हैं। साथ ही ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ उनकी बातचीत भी हो चुकी है।

हरियाणा में किसान आंदोलन का दिखा असर, चौटाला पर सरकार छोड़ने का दबाव बढ़ा

Jyotiraditya Scindia-Shivraj Singh Chouhan ज्योतिरादित्य सिंधिया और शिवराज सिंह चौहान(फोटो:सोशल मीडिया)

सिंधिया के बेहद नजदीकी माने जाते हैं ये नेता

तुलसीराम सिलावट और गोविंद सिंह राजपूत, सिंधिया के बेहद नजदीकी माने जाते हैं। इतना ही नहीं इन दोनों नेताओं ने उपचुनाव से पहले मंत्री पद से त्याग पत्र दे दिया था।

उन्होंने ऐसा इसलिए किया था क्योंकि वे विधानसभा के निर्वाचित सदस्य नहीं थे और दोनों को मंत्री पर पर रहते 6 महीने का समय पूरा हो चुका था।

उपचुनाव में सिलावट और राजपूत ने अपनी-अपनी सीटों से विजय प्राप्त की है। एक बार फिर दोनों नेताओं को शिवराज कैबिनेट में जगह मिलने की उम्मीद लगाई जा रही है।

ममता सरकार ने सौरव से जमीन वापस लेने की प्रक्रिया शुरू की, वजह जान चौंक जाएंगे

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें – Newstrack App

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story