इलाज के बाद थमाया भारी भरकम बिल, पैसे जमा नहीं करने पर मरीज को बेड से बांधा

मध्यप्रदेश के एक अस्पताल में इंसानियत को शर्मसार कर देने वाला वाकया सामने आया है। यहां के शाजापुर जिले के एक अस्पताल में एक बुजुर्ग मरीज को इलाज का बिल जमा नहीं करने पर बेड से बांधकर रखा गया।

Published by Aditya Mishra Published: June 7, 2020 | 3:38 pm
Modified: June 7, 2020 | 3:41 pm

इंदौर: मध्यप्रदेश के एक अस्पताल में इंसानियत को शर्मसार कर देने वाला वाकया सामने आया है। यहां के शाजापुर जिले के एक अस्पताल में एक बुजुर्ग मरीज को इलाज का बिल जमा नहीं करने पर बेड से बांधकर रखा गया।

इसकी भनक लगने पर परिजनों ने आपत्ति जताई। वहीं अस्पताल ने इस मामले में सफाई देते हुए कहा कि मरीज को ऐंठन हो रही थी और इस कारण उसके हाथ और पैर बंधे हुए थे ताकि वह खुद को कोई शारीरिक नुकसान न पहुंचा सके। अब जिला अस्पताल ने परिजनों की शिकायत मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

मध्यस्थता पर भारत ने ट्रंप को दिया जवाब, विदेश मंत्रालय ने चीन पर कही ये बड़ी बात

सीएम तक पहुंची शिकायत

उधर मामला मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान तक पहुंच चुका है। शिवराज ने शाजापुर स्थित अस्पताल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई बात कही है।
बताते चलें कि तीमारदारों का आरोप है 11,000 रुपये का भुगतान करने में विफल रहने पर अस्पताल प्रशासन ने उसके बुजुर्ग मरीज के पैरों और हाथों को बेड से बांध दिया।

जबकि अस्पताल की तरफ से इस आरोप को ख़ारिज करते हुए कहा गया है कि बुजुर्ग को इसलिए बांधा गया था क्योंकि इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन के कारण उन्हें ऐंठन हो रही थी।

कोरोना वायरस के संकट के बीच मध्य प्रदेश में 50 आईएएस अधिकारियों का तबादला

अस्पताल ने आरोपों से किया इनकार

अस्पताल के एक डॉक्टर ने कहा कि इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन के कारण उन्हें ऐंठन हो रही थी। हमने उन्हें बांध दिया ताकि वह खुद को चोट न पहुंचा सके। डॉक्टर ने यह भी कहा कि अस्पताल ने मानवीय आधार पर उनके बिल को माफ कर दिया था।

उधर जिला क्लेक्टर का इस मामले में बयान आया है, जिसमें उन्होंने कहा कि हमने जांच के लिए एक टीम को अस्पताल भेजा है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। जल्द ही जांच रिपोर्ट आने वाली है। जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर में ट्रक ने 16 मजदूरों को कुचला, 5 की मौत