किसानों पर तगड़ा ऐक्शन: कुछ घंटे बहुत ही अहम, मोदी सरकार तैयार

गृह मंत्रालय ने दिल्ली के लिए सख्त आदेश जारी किए हैं। गृह मंत्रालय ने दिल्ली पुलिस समेत सभी पड़ोसी राज्यों की पुलिस को सभी उपद्रवियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्वाई के निर्देश दिए हैं। इस दौरान दिल्ली में 26 जनवरी को जो भी बवाल हुआ उसकी जांच दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच करेगी।

Published by Vidushi Mishra Published: January 27, 2021 | 2:05 pm
para military

फोटो-सोशल मीडिया

नई दिल्ली: दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर किसानों के उपद्रव की तमाम खबरे सामने आई। ऐसे में गृह मंत्रालय ने दिल्ली के लिए सख्त आदेश जारी किए हैं। गृह मंत्रालय ने दिल्ली पुलिस समेत सभी पड़ोसी राज्यों की पुलिस को सभी उपद्रवियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्वाई के निर्देश दिए हैं। इस दौरान दिल्ली में 26 जनवरी को जो भी बवाल हुआ उसकी जांच दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच करेगी। राजधानी में क्राइम ब्रांच इस मामले में आज शाम तक एक एसआईटी (SIT) गठित करने वाली है, जोकि पूरे घटनाक्रम की जांच करेगी।

ये भी पढ़ें… किसान हिंसा खुलासा: सामने आया टिकैत का ये वीडियो, देख सरकार भी हिल गईं

सख्त एक्शन से इनकार नहीं

गृह मंत्रालय के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, आज शाम तक किसान संगठनों (Farmers Organizations) को दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) के सभी धरनास्थलों को खाली कराने के भी निर्देश जारी किए जाएंगे। अब अगर इसके बाद भी किसान संगठन नहीं मानें, तो सख्त एक्शन से इनकार नहीं किया जा सकता।

आपको बता दें 26 जनवरी की हिंसात्मक घटना के बाद दिल्ली पुलिस ने गृह मंत्रालय को जो जानकारी दी है, उसके हिसाब से अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती का काम उपद्रवग्रस्त इलाकों में पूरा किया जा चुका है। साथ ही कल जिन इलाकों में उपद्रव हुआ था वहां फिलहाल हालात काबू में हैं।

delhi voilence
फोटो-सोशल मीडिया

ये भी पढ़ें…दिल्ली हिंसा: पुलिस ने 200 उपद्रवियों को हिरासत में लिया, दंगा और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का आरोप

सभी इलाकों में विशेष सतर्कता

लेकिन दिल्ली के कई इलाकों में आज शाम तक और पैरामिलिट्री फोर्स तैनात की जाएगी। जबकि दिल्ली से लगे हुए हरियाणा और उत्तर प्रदेश के सभी इलाकों में विशेष सतर्कता बरती जा रही है। फरीदाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद में विशेष फोर्सेज की तैनाती की जा रही है।

वहीं उपद्रव में दिल्ली पुलिस के 230 जवान और अधिकारी घायल हो गए हैं, जिसमें बाहरी जिले में ही 78 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों में कई एफआईआर दर्ज हो रही हैं।

इस बारे में दिल्ली पुलिस के पूर्व ज्वाइंट सीपी एसबीएस त्यागी कहते हैं, ‘दिल्ली पुलिस ने कल काफी संयम से काम लिया। अगर दिल्ली पुलिस जवाबी कार्रवाई करती तो भीड़ और हिंसक हो सकती थी। कल की घटना पर गृह मंत्रालय को जरूर एक्शन लेना चाहिए, ऐसा पूर्व के अनुभवों के आधार पर मैं कह सकता हूं। हो सकता है कि घरनास्थलों को लेकर अब दिल्ली पुलिस की रणनीति पहले जैसी न रहे।

ये भी पढ़ें…किसान हिंसा का दोषी: यही हैं वो असली जिम्मेदार, जिसने दिल्ली में मचा दिया तांडव

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App