सीएए के समर्थन में राज ठाकरे ने कही ये बड़ी बात

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे अपने पुराने रंग में लौट आए हैं। अपने बेबाक बोल के लिए जाने जाने वाले राज ठाकरे ने गुरुवार को कहा कि भगवा..

लखनऊ। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे अपने पुराने रंग में लौट आए हैं। अपने बेबाक बोल के लिए जाने जाने वाले राज ठाकरे ने गुरुवार को कहा कि भगवा मेरे डीएनए में है। साथ ही उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का समर्थन किया और कहा कि पाकिस्तान और बांग्लादेश के घुसपैठियों को बाहर फेंक देना चाहिए।

ये भी पढ़ें- एक्शन में योगी सरकार: CAA- महिला प्रदर्शनकारियों पर उठाया बड़ा कदम, 1200 से अधिक नपे

बाला साहेब ठाकरे की जयंती पर पार्टी के झंडे के रंग को भगवा में बदलने वाले राज ठाकरे ने मुंबई में कहा कि भगवा झंडा साल 2006 से मेरे दिल में था। हमारे डीएनए में भगवा है। मैं मराठी हूं और एक हिंदू हूं। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि मुसलमान भी अपने हैं।

नागरिकता संशोधन कानून का समर्थन किया

उन्होंने इस दौरान नागरिकता संशोधन कानून का समर्थन किया। मनसे प्रमुख ने कहा कि मैं हमेशा कहता रहा हूं कि पाकिस्तान और बांग्लादेश के घुसपैठियों को देश से बाहर फेंक देना चाहिए।

 

राज ठाकरे कई बार पीएम मोदी की आलोचना भी कर चुके हैं। इसपर उन्होंने कहा कि मुझे जब लगता है कि जो उन्होंने कहा वो सही नहीं है, तो मैं उनकी आलोचना करता हूं। लेकिन जब उन्होंने अच्छे काम किए तो मैंने तारीफ भी की।

रंग बदलने वाली सरकारों के साथ नहीं जाता-राज

वहीं महाराष्ट्र सरकार पर उन्होंने कहा कि मैं रंग बदलने वाली सरकारों के साथ नहीं जाता। राज ठाकरे का निशाना शिवसेना की तरफ था जिसने कुछ माह पहले कांग्रेस और एनसीपी के साथ सरकार बनाई है।

मुस्लिम धर्मगुरु विदेश जाते हैं

राज ठाकरे ने यह भी कहा कि जिन दलों ने सीएए के खिलाफ मोर्चा खोला है, उनकी पार्टी मनसे उनके खिलाफ मोर्चा खोलेगी। सीएए के बारे में उन्होंने कहा कि जो लोग बाहर से अवैध ढंग से आए हैं, उन्हें क्यों शरण दी जानी चाहिए? राज ठाकरे ने कहा कि अगले कुछ दिनों में वे महाराष्ट्र के गृह मंत्री या मुख्यमंत्री से मिलेंगे और उनके समक्ष कुछ मुद्दे उठाएंगे।

ये भी पढ़ें- आजम खान पर बड़ी कार्रवाई, एक्शन में योगी सरकार

मुस्लिम धर्मगुरुओं के बारे में उन्होंने कहा कि वे विदेश जाते हैं लेकिन कोई नहीं जानता कि किस काम से जाते हैं। जबकि पुलिस भी वहां तक नहीं जा सकती।