किसानों को राहत: मोदी सरकार का तोहफा, गेहूं समेत सभी रबी फसलों पर MSP बढ़ाई

कैबिनेट में रबी फसलों पर MSP की बढ़ोतरी को मंजूरी मिल गई है। आज कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने लोकसभा में नई कीमत बताई है।

modi cabinet approves MSP Hike for Rabi Crops Amid Protests over Farm Bills 2020

सभी रबी फसलों पर MSP बढ़ाई (Photo Social media)

नई दिल्ली: संसद में मॉनसून सत्र में कृषि संबंधी विधेयक पास होने के बाद विपक्ष जमकर हंगामा मचा रहा है तो वहीं देश भर में किसान मोदी सरकार के कृषि अध्यादेशों का विरोध कर रहे हैं। इस बीच मोदी कैबिनेट में रबी फसलों पर MSP की बढ़ोतरी को मंजूरी मिल गई है। आज कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने लोकसभा में नई कीमत बताई है। इसके तहत गेहूं पर 50 रुपये की बढ़ोतरी, समेत चना, मसूरम सरसो, जौ और कुसुम्भ पर बढ़ोतरी की गयी है।

रबी फसलों पर MSP की बढ़ोतरी को मिली मंजूरी

दरअसल, मोदी सरकार ने कृषि लागत व मूल्य आयोग की सिफारिशों को मानते हुए रबी की फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) में बढ़ोतरी का फैसला कर लिया है। इसके तहत आज सुबह प्रधानमंत्री ने एलान किया था कि MSP पहले की ही तरह चलने वाली है। वहीं सदन में कृषि मंत्री ने रबी की फसलों के नए दाम बताये।

ये भी पढ़ेंः किसान बिल का विरोध: आप और भकियू ने किया प्रदर्शन, पुलिस ने किया गिरफ्तार

ये है रबी फसलों की नई कीमत

रबी फसलों पर MSP की बढ़ोतरी को सदन से मंजूरी मिल मिलने के बाद कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने लोकसभा में नई कीमत बताई है। इसमें गेहूं में 50 रुपये की बढ़ोतरी हुई। तो वहीं चना पर 225 रुपये, मसूर में 300 रुपये, सरसो पर 225 रुपये, जौ पर 75 रुपये की बढ़ोतरी और कुसुम्भ पर 112 रुपये की बढ़ोतरी हुई है।

ये भी पढ़ेंः नदियों में आतंकी घर: ऐसे दे रहे सेना को चकमा, नहीं कामयाब हुई ये भी साजिश

MSP बेहद जरुरी:

बता दें कि देश के सभी प्रदेश सरकारें किसानों को एमएसपी का लाभ नहीं दे पा रही। बिहार पर मध्य प्रदेश में हालात खराब हैं। यहां किसानों को एमएसपी नहीं मिल पा रहा है। शांता कुमार समिति की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में सिर्फ 6 फीसदी किसानों को ही एमएसपी का लाभ मिलता है। यानी 94 फीसदी किसान मार्केट पर डिपेंड हैं।

modi cabinet approves MSP Hike for Rabi Crops Amid Protests over Farm Bills 2020

ऐसे तय होता है MSP

कृष‍ि लागत और मूल्य आयोग न्यूनतम समर्थन मूल्य की सिफारिश करता है. वह कुछ बातों को ध्यान में रखकर दाम तय किया जाता है।

– उत्पाद की लागत क्या है?

– फसल में लगने वाली चीजों के दाम में कितना बदलाव आया है?

– बाजार में मौजूदा कीमतों का रुख?

– मांग और आपूर्ति की स्थ‍िति?

-राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर की स्थ‍ितियां कैसी हैं?

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App