Top

मोदी सरकार को मिली बड़ी कामयाबी, सैकड़ों ऑस्ट्रेलियाई कंपनियों ने लिया ये फैसला

भारत विश्व में सबसे तेज गति से बढ़ रही अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। अब इसका फायदा भारत को मिल रहा है। अब 100 से अधिक संख्या में ऑस्ट्रेलियाई कंपनियां भारत आ रही हैं।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 24 Feb 2020 4:31 AM GMT

मोदी सरकार को मिली बड़ी कामयाबी, सैकड़ों ऑस्ट्रेलियाई कंपनियों ने लिया ये फैसला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: भारत विश्व में सबसे तेज गति से बढ़ रही अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। अब इसका फायदा भारत को मिल रहा है। अब 100 से अधिक संख्या में ऑस्ट्रेलियाई कंपनियां भारत आ रही हैं।

ऑस्ट्रेलिया के व्यापार, पर्यटन और निवेश मंत्री, साइमन बर्मिंघम ने जानकारी दी कि इस मिशन का उद्देश्य शिक्षा, पर्यटन, स्वास्थ्य, संसाधन, मूलभूत सुविधाओं और खाद्यान्न, शराब और सौंदर्य के उत्कृष्ट उत्पादों पर फोकस के साथ ऑस्ट्रेलियाई कंपनियों के लिए नए दरवाजे खोलना है।

मंत्री साइमन बर्मिंघम ने बताया कि हम अगले 20 वर्षों तक भारत की अर्थव्यवस्था के विकास के सम्मुख और केंद्र में ऑस्ट्रेलियाई कंपनियों की उपस्थिति सुनिश्चित करना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें...भूकंप के तगड़े झटके से हिला शहर: घरों से निकले डरे-सहमे लोग

उन्होंने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था का स्वरुप तेजी से बदल रहा है। उन्होंने अनुमान जताया कि वर्ष 2035 के आते-आते यह विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा। इस स्थिति में विभिन्न निर्यात क्षेत्रों में ऑस्ट्रेलियाई कंपनियों के लिए भारी संभावना दिखाई दे रही है।

साइमन बर्मिंघम ने कहा कि भारत का महत्वाकांक्षी मध्य वर्ग भी, जिसकी संख्या ऑस्ट्रेलिया की आबादी से 12 गुना अधिक है, तेजी से बढ़ रहा है और अब समय आ गया है कि ऑस्ट्रेलियाई कंपनियों को जगह पर लाया जाए ताकि वे भारतीय कंपनियों, सप्लाई चेन्स और निवेश सहयोगियों के साथ दीर्घकालीन सम्बन्ध विकसित कर सकें।

यह भी पढ़ें...ट्रंप की यह यात्रा: पूरी दुनिया के लिए कई बड़े संदेश की संकेतक है

उन्होंने कहा कि ऑस्ट्रेलिया के उत्कृष्ट उत्पाद, हमारी उच्च कोटि की शिक्षा व्यवस्था और पर्यटन सेवाएं, और हमारी नवोन्मेषी मूलभूत संरचनाएं, ऊर्जा एवं कृषिजन्य व्यापार समाधान भारत के भविष्य की जरूरतें पूरी करने को बिलकुल तैयार हैं।

यह भी पढ़ें...भारत आने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति: इनका जलवा था कुछ ऐसा, बदल दिया गांव का नाम

बता दें कि शिक्षा, पर्यटन, ऊर्जा और संसाधनों, और खाद्य और कृषिजन्य व्यापार जैसे प्राथमिकता के क्षेत्रों की ऑस्ट्रेलियाई कंपनियों का शिष्ट मंडल 24 से 28 के बीच नई दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, हैदराबाद, बेंगलुरु और चेन्नई का दौरा करेगा। यह दौरा ऑस्ट्रेड के ऑस्ट्रेलिया-इंडिया बिजनेस एक्सचेंज, जो दोनों देश के बीच व्यापार, निवेश और पर्यटन कारोबार की आयोजनों का बहुमासिक कार्यक्रम का हिस्सा है।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story