नक्सली कमांडर रमन्ना की मौत, 2 करोड़ से ज्यादा का था इनाम

छत्तीसगढ़ के मोस्ट वॉन्टेड नक्सली कमांडर रमन्ना उर्फ संतोष रावुला श्रीनिवास की मंगलवार को मौत हो गई है। रमन्ना को बक्सर में भूमिगत रहने के दौरान दिल का दौरा पड़ा था जिसकी वजह से उसकी मौत हो गई। इसके ऊपर 2 करोड़ से ज्यादा का इनाम था।

नई दिल्ली: छत्तीसगढ़ के मोस्ट वॉन्टेड नक्सली कमांडर रमन्ना उर्फ संतोष रावुला श्रीनिवास की मंगलवार को मौत हो गई है। रमन्ना को बक्सर में भूमिगत रहने के दौरान दिल का दौरा पड़ा था जिसकी वजह से उसकी मौत हो गई। इसके ऊपर 2 करोड़ से ज्यादा का इनाम था।

रमन्ना की मौत की खबर के बाद सुरक्षा एजेंसियां और पुलिस अलर्ट हो गई हैं। इसकी कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हो सकी है। रमन्ना की मौत की खबरों को लेकर बीते दो दिन से पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों में खलबली मची हुई है। हालांकि उसकी मौत के बाद सुरक्षा एजेंसियों ने राहत की सांस ली है। तेलंगाना, ओडिशा और छत्तीसगढ़ की सरकारों ने नक्सली रमन्ना पर करीब दो करोड़ चालीस लाख रुपये का इनाम रखा था।

यह भी पढ़ें…लोकसभा में नागरिकता बिल पास, राज्यसभा में सरकार के लिए है ये बड़ी चुनौती

रमन्ना उर्फ संतोष रावुला श्रीनिवास आंध्र प्रदेश का रहने वाला था और सीपीआई (माओवादी) की सेंट्रल कमेटी का सदस्य था। रमन्ना ने पिछले एक दशक में कई बड़ी वारदातों को अंजाम दिया था। इनमें सुकमा हमला, ताड़मेटला हमला और दरभा घाटी हमला शामिल है। सुकमा में 25 जवान और ताड़मेटला में 76 जवान शहीद हुए थे, जबकि दरभा घाटी में कांग्रेस पार्टी के शीर्ष नेताओं समेत 27 लोगों की मौत हुई थी।

यह भी पढ़ें…नागरिकता बिल पर असम से बंगाल तक उबाल, प्रदर्शन जारी, परीक्षाएं रद्द

बता दें कि रमन्ना सीपीआई (माओवादी) की सेंट्रल कमेटी का सदस्य होने के साथ ही दंडकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी के सदस्य के तौर पर भी काम कर रहा था। रमन्ना सुकमा में सक्रिय सबसे वरिष्ठ नक्सलियों में से एक था। इस पूरे इलाके में उसकी खासी दहशत थी।

गौरतलब है कि रमन्ना की मौत की खबरें पहले भी आती रहीं हैं, जो बाद में गलत पाई गईं।