सरकार का बड़ा एलान, संक्रमितों के बच्चे नहीं दे सकते बोर्ड परीक्षा

मध्य प्रदेश में 12वीं की बोर्ड की परीक्षाएं 9 जून से शुरू होनी है। सरकार ने कोरोना संकट के बीच परिक्षा कराने को लेकर दिशा निर्देश जारी किये हैं। इस दौरान ध्यान दिया जायेगा कि छात्रों के बीच संक्रमण का खतरा न हो। एग्जाम सेंटर पर ख़ास इंतज़ाम किये जाएंगे।

भोपाल: कोरोना वायरस का असर अब स्कूली छात्रों के भविष्य और बच्चों की बोर्ड परीक्षाओं पर भी पड़ने लगा है। सरकार ने इसे लेकर बड़ा फैसला लिया है, जिसके तहत किसी भी छात्र के परिवार का कोई सदस्य कोरोना पॉजिटिव हैं या क्वारंटाइन है तो वह 12वीं बोर्ड की परीक्षा नहीं दे सकेगा। हालंकि परीक्षा के दौरान छात्रों के बीच संक्रमण न फैले, इसके मद्देनजर भी सरकार ने इंतज़ाम करवाएं हैं।

एमपी 12वीं की बोर्ड परीक्षा को लेकर सरकार के निर्देश:

मध्य प्रदेश में 12वीं की बोर्ड की परीक्षाएं 9 जून से शुरू होनी है। सरकार ने कोरोना संकट के बीच परिक्षा कराने को लेकर दिशा निर्देश जारी किये हैं। इस दौरान ध्यान दिया जायेगा कि छात्रों के बीच संक्रमण का खतरा न हो। एग्जाम सेंटर पर ख़ास इंतज़ाम किये जाएंगे।

परीक्षार्थियों के परीक्षा केंद्र में भी बदलाव

बता दें कि करीब साढ़े 7 लाख से ज्यादा परीक्षार्थी इस बार एमपी बोर्ड परीक्षा में शामिल होने वाले हैं। इसके लिए 3657 परीक्षा केंद्र बनाएं गए हैं। वहीं कोरोना संक्रमण के दौरान परीक्षार्थियों के परीक्षा केंद्र में भी बदलाव किया गया है।

ये भी पढ़ेंः B’day special: पहले नहीं देखी होंगी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की ये 10 तस्वीरें

कोरोना संकट के बीच ऐसे होगी बोर्ड परीक्षा

परीक्षा केंद्रों पर परीक्षार्थियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी।

परीक्षा केंद्रों पर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ परीक्षार्थी परीक्षा में बैठेंगे।

छात्रों को अपने साथ सैनिटाइजर ले जाने की अनुमति होगी।

हर परीक्षा केंद्र पर छात्रों और शिक्षकों के लिए सैनिटाइजर की व्यवस्था होगी।

जिन परीक्षार्थियों में एग्जाम के दौरान सर्दी, खांसी और बुखार के लक्षण दिखाई देंगे, उनके लिए की परीक्षा आइसोलेशन रूम यानी रिजर्व रूम बनाया जाएगा, ताकि उनकी परीक्षा न छूटे।

ये छात्र नहीं दे सकेंगे एग्जाम

एग्जाम से पहले छात्रों की थर्मल स्केनिंग होगी, जिन परीक्षार्थी का टेंपरेचर तय मानकों से ज्यादा होगा उन्हें अलग से आइसोलेशन रूम से परीक्षा देनी होगी ।

वहीं जिन परीक्षार्थियों के परिवार का कोई सदस्य संक्रमित होगा या क्वारंटाइन में होगा, उन्हें 12वीं की परीक्षा में शामिल नहीं किया जाएगा।

ये भी पढ़ेंः यूपी की ये फ़ूड स्कीम: लाखों लोगों के लिए रोजगार, प्रदेशवासियों को ऐसे मिलेगा लाभ

कन्टेनमेंट जोन के छात्र परीक्षा में हो सकेंगे शामिल

रेड या कन्टेनमेंट जोन के छात्रों को परीक्षा में शामिल होने की अनुमति है, इसके लिए छात्र कंटेंनमेंट क्षेत्र के सम्बंधित पुलिस थाना में प्रवेश पत्र दिखाकर परीक्षा केंद्र जा सकते है।

वहीं कन्टेनमेंट जोन के अंतर्गत कोई परीक्षा केंद्र नहीं बनाया गया है। पहले 24 कंटेनमेंट क्षेत्र में परीक्षा केंद्र थे, जिन्हे अब बदल दिया गया है।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।