Top

मुजफ्फरपुर शेल्टरहोम केस में खुलासे के बाद बोले तेजस्वी, बर्खास्त हो नीतीश सरकार

तेजस्वी ने राज्यपाल से गुजारिश की है कि हम महामहिम राज्यपाल से अनुरोध करते है कि मुज़फ़्फ़रपुर बलात्कार कांड में नीतीश सरकार की पूर्ण संलिप्तता पाए जाने के बाद इस अनैतिक एवं व्यभिचारी नीतियों और कुछेक दुराचारी मंत्रियों से युक्त सरकार को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त करें

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 4 May 2019 8:54 AM GMT

मुजफ्फरपुर शेल्टरहोम केस में खुलासे के बाद बोले तेजस्वी, बर्खास्त हो नीतीश सरकार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मुजफ्फरपुर: बिहार के मुजफ्फरपुर शेल्टरहोम केस में बड़ा खुलासा हुआ है। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में इस बात की आशंका जाहिर की है कि मुजफ्फरपुर आश्रय गृह यौन उत्पीड़न मामले के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर और उसके सहयोगियों ने 11 लड़कियों की कथित रूप से हत्या कर दी थी।

इसके बाद आरजेडी नेता और पूर्व मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने बिहार की नीतीश सरकार हमला किया है और राज्यपाल से तुरत इस सरकार को बर्खास्त करने की मांग की है।

तेजस्वी ने ट्वीट कर कहा कि कि नीतीश कुमार के अति क़रीबी दुलरवा ब्रजेश ठाकुर ने सीएम के संरक्षण मे 34 बच्चियों का सत्ताधारी नेताओं द्वारा सामूहिक बलात्कार के उपरांत 11 बच्चियों को मारकर गाड़ दिया। हिंदू रीति से दाह-संस्कार भी नहीं किया। बाक़ी बच्चियां अभी भी ग़ायब है। नीतीश सरकार पूर्णत: नंगी हो चुकी है।

यह भी पढ़ें...16 की उम्र में कॉलीवुड की मिस मद्रास बनी ‘त्रिशा कृष्णन’ का जन्मदिन आज

अपने अगले ट्वीट में ज्ञानी ध्यानी प्रवचनकर्ता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी आज फिर बिहार आ रहे हैं, लेकिन इस घिनौने कुकृत्य पर उनकी ज़ुबान नहीं खुलेगी, क्योंकि उनके मित्र नीतीश कुमार और बीजेपी के कई मंत्री इस जनबलात्कार कांड में संलिप्त है। सीबीआइ के अंतरिम निदेशक को इन बलात्कारियों को बचाने के लिए ही सजा मिली थी।

नीतीश कुमार में शर्म बची है तो मुज़फ़्फ़रपुर बालिका गृह बलात्कार कांड में साक्ष्य मिलने के बाद तो अब माफ़ी मांग लेनी चाहिए। तेजस्वी ने सीएम नीतीश से सवाल पूछा है कि बताएं- नीतीश कुमार ब्रजेश ठाकुर के मुज़फ़्फ़रपुर घर क्या करने जाते थे? उन्होंने उस दरिंदे पर FIR क्यों नहीं की? बाद में की तो पॉक्सो एक्ट की धारा क्यों नहीं लगाई?

यह भी पढ़ें...प्रतापगढ़- मोदी ने कहा, बहन जी को समझ आ गया है कि सपा-कांग्रेस ने बहुत बड़ा खेल खेला है

तेजस्वी ने राज्यपाल से गुजारिश की है कि हम महामहिम राज्यपाल से अनुरोध करते है कि मुज़फ़्फ़रपुर बलात्कार कांड में नीतीश सरकार की पूर्ण संलिप्तता पाए जाने के बाद इस अनैतिक एवं व्यभिचारी नीतियों और कुछेक दुराचारी मंत्रियों से युक्त सरकार को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त करें तभी बिहार की माताएं और बहन-बेटी सुरक्षित रह सकेंगी।

सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट में दायर अपने हलफनामे में कहा कि जांच के दौरान दर्ज पीड़ितों के बयानों में 11 लड़कियों के नाम सामने आए हैं, जिनकी ब्रजेश ठाकुर और उनके सहयोगियों ने कथित रूप से हत्या की थी। एजेंसी ने कहा कि एक आरोपी की निशानदेही पर एक श्मशान घाट के एक खास स्थान की खुदाई की गई, जहां से हड्डियों की पोटली बरामद हुई है।

यह भी पढ़ें...रायबरेली – डलमऊ गंगा पुल में गिरा गेंहू से लदा ट्रक, खलासी और ड्राइवर की मौत

गौरतलब है कि बिहार के मुजफ्फरपुर में एक एनजीओ द्वारा संचालित आश्रय गृह में कई लड़कियों का कथित रूप से बलात्कार और यौन उत्पीड़न किया गया था। इस मामले की जांच सीबीआई को स्थानान्तरित की गई थी और एजेंसी ने ठाकुर सहित 21 लोगों के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया था।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story