सीमा विवाद पर नेपाल का बड़ा बयान, मोदी सरकार से कही ये बात

नेपाल के विदेशमंत्री प्रदीप कुमार ग्यावली ने शुक्रवार को कहा कि यदि बांग्लादेश के साथ भारत सीमा विवाद सुलझा सकता है तो उनके देश के साथ क्यों नहीं।

काठमांडू/नई दिल्ली।  नेपाल के विदेशमंत्री प्रदीप कुमार ग्यावली ने शुक्रवार को कहा कि यदि बांग्लादेश के साथ भारत सीमा विवाद सुलझा सकता है तो उनके देश के साथ क्यों नहीं। उन्होंने यह टिप्पणी दोनों पड़ोसियों के बीच सीमा को लेकर उभरे मतभेद के संदर्भ में कही।

ये भी पढ़ें- अखिलेश ने BJP पर साधा निशाना, योगी सरकार की गंगा यात्रा पर उठाये सवाल

नवंबर में जम्मू-कश्मीर व लद्दाख के गठन के बाद भारत द्वारा जारी नए मानचित्र के चलते दोनों देशों में कुछ विवाद पैदा हुए हैं। ग्यावली ने कहा, ‘अनसुलझे मुद्दे का बोझ लेकर आगे नहीं बढ़ना चाहिए क्योंकि दोनों देशों और उनके नेताओं के बीच समझ का स्तर सर्वाधिक है।

 लंबित मुद्दों का बातचीत के जरिये समाधान निकाला जाए

ग्यावली की टिप्पणी पीएम केपी शर्मा ओली के बयान के बाद आई है। जिसमें उन्होंने कहा था, समय आ गया है कि दोनों देशों के दीर्घकालिक हित के लिए सभी लंबित मुद्दों का बातचीत के जरिये समाधान निकाला जाए।

ओली ने यह टिप्पणी दोनों देशों के बीच संपर्क व कारोबार बढ़ाने के मकसद से 140 करोड़ रुपये की लागत से तैयार जोगबनी-विराटनगर एकीकृत जांच चौकी का वीडियो लिंक से उद्घाटन करते वक्त कही थी।

ये भी पढ़ें-झारखंड विकास मोर्चा (प्रजातांत्रिक) नेता अभय सिंह ने हेमंत सोरेन की सरकार से समर्थन लिया वापस

भारत द्वारा जारी नक्शे के सामने आने के बाद नेपाल ने दावा किया कि लिम्पियाधुरा, लुपुलेक और कालापानी इलाके को भारत में दिखाया गया है, जबकि वह नेपाल का हिस्सा है। वहीं भारत ने कहा कि नया मानचित्र बिल्कुल सही है, जिसकी समीक्षा का सवाल ही नहीं है।