×

नेपाल ने भारत को दिया तगड़ा झटका, सील की सीमाएं, इन रास्तों पर तैनात की फोर्स

भारत का पड़ोसी मुल्क नेपाल अपनी गलत हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। नक्शा विवाद अभी पूरी तरह से थमा भी नहीं था कि नेपाल ने एक बार फिर से ऐसा विवादास्पद कदम उठाया है जो दोनों देशों के मधुर सम्बन्धों पर असर डाल सकती है।

Aditya Mishra
Updated on: 1 Jun 2020 9:14 AM GMT
नेपाल ने भारत को दिया तगड़ा झटका, सील की सीमाएं, इन रास्तों पर तैनात की फोर्स
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

काठमांडू: भारत का पड़ोसी मुल्क नेपाल अपनी गलत हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। नक्शा विवाद अभी पूरी तरह से थमा भी नहीं था कि नेपाल ने एक बार फिर से ऐसा विवादास्पद कदम उठाया है जो दोनों देशों के मधुर सम्बन्धों पर असर डाल सकती है।

दरअसल नेपाल की तरफ से भारत-नेपाल सीमा को सील किया गया है। ऐसी जगहों पर भारी सुरक्षा बलों की तैनाती कर दी गई है और चेकपोस्ट बनाए गए हैं।

नेपाल के उच्चपदस्थ अधिकारी ने बताया कि ऐसी जगहों पर बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती कर दी गई है और चेकपोस्ट बनाए गए हैं। नेपाली नागरिकों समेत भारत से आने वाले लोगों की चेकिंग की जा रही है।

नक्शा विवाद के बाद नेपाल ने भारत के खिलाफ लिया एक और विवादास्पद फैसला

सीसीटीवी से रखी जा रही नजर

उन्हें क्वारंटाइन होने को भी कहा जा रहा है। कुछ जगहों पर सीसीटीवी कैमरे भी लगे हैं। इससे पहले मार्च में भी नेपाल ने चीन और भारत के साथ अपनी सीमाओं को इसी वजह से सील कर दिया था।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सीमा विवाद को लेकर भारत से टकराव के बाद नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली की कैबिनेट ने सीमा व्यवस्थापन और सुरक्षा के नाम पर सख्ती दिखाते हुए भारत से लगी 20 सीमाओं को छोड़कर बाकी सभी को बन्द करने का फैसला किया है।

क्या अगला युद्ध भारत-नेपाल के बीच होगा, पढ़ें रक्षामंत्री पोखरेल का ये उकसाऊ बयान

नेपाल सरकार के इस फैसले के बाद अब सिर्फ तय सीमा से ही नेपाल में प्रवेश करने की अनुमति होगी। यहां आपको बता दें कि नेपाल और भारत के बीच करीब 1,700 किलोमीटर की खुली सीमाएं हैं। अभी तक नेपाल आने वाले भारतीय नागरिकों को बिना रोक-टोक अपनी सुविधा के मुताबिक इन खुली सीमाओं से एंट्री मिलती थी।

जिस दिन नेपाल सरकार ने भारतीय क्षेत्रों को मिलाकर अपना नया नक्शा जारी किया था, यह निर्णय उसी दौरान लिया गया है। लेकिन सरकार ने एक हफ्ते तक इस निर्णय को छिपा कर रखा। राजपत्र में प्रकाशित करने के बाद इसे सार्वजनिक किया गया है।

हुए रोटी को मोहताज: यहां फंसे हुए हैं नेपाली परिवार, मदद की लगाई गुहार

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story