×

सरकार का हाई अलर्ट: सावधान कोरोना के नए स्ट्रेन से, इन राज्यों में मिले संक्रमित

सरकार द्वारा उठाए गए इस कदम से पहले ही ब्रिटेन से आए सैकड़ों लोग भारत के अलग-अलग राज्यों में पहुंच चुके हैं। इसमें कई यात्री ऐसे भी हैं जो कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इन सभी लोगों के नमूनों को जांच के लिए आगे भेज दिया गया है।

Newstrack
Published on: 24 Dec 2020 12:59 PM GMT
सरकार का हाई अलर्ट: सावधान कोरोना के नए स्ट्रेन से, इन राज्यों में मिले संक्रमित
X
सरकार का हाई अलर्ट: सावधान कोरोना के नए स्ट्रेन से, इन राज्यों में मिले संक्रमित
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ: ब्रिटेन में कोरोना के नए प्रकार के सामने आने के बाद भारत ने वहां से आने वाली उड़ानों पर प्रतिबंध लगा दिया है। लेकिन सरकार द्वारा उठाए गए इस कदम से पहले ही ब्रिटेन से आए सैकड़ों लोग भारत के अलग-अलग राज्यों में पहुंच चुके हैं। इसमें कई यात्री ऐसे भी हैं जो कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इन सभी लोगों के नमूनों को जांच के लिए आगे भेज दिया गया है।

दिल्ली में ब्रिटेन से आए 11 यात्री मिले संक्रमित

ब्रिटेन से भारत आने वाली सभी उड़ानों पर प्रतिबंध लगाने के बाद दिल्ली एयरपोर्ट पर अब तक करीब एक हजार यात्रियों की जांच की जा चुकी है। इनमें से कुल 11 यात्री कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इसमें मंगलवार की रात दो उड़ानों के जरिए दिल्ली पहुंचे 514 यात्री भी शामिल हैं, जिनकी कोरोना जांच की गई है। इनमें छह यात्रियों की रिपोर्ट पाजिटिव आई है। पाजिटिव मिले यात्रियों को इलाज के लिए अस्पताल भेज दिया गया है। इसके अलावा जांच में नेगेटिव आने वाले 50 ऐसे यात्रियों को सरकारी क्वारंटाइन में रखा गया है जो संक्रमित मिले यात्रियों के आस-पास बैठे थे।

ये भी पढ़ें: 1 जनवरी से देश में सभी वाहनों के लिए FASTag अनिवार्य: नितिन गडकरी

अमृतसर आए आठ कोरोना पाजिटिव

लंदन से अमृतसर लौटे 242 यात्रियों में से आठ कोरोना पाजिटिव पाए गए हैं। इन सभी लोगों का जिनोम टेस्ट किया जाएगा। इस टेस्ट के जरिये यह पता लगाया जाएगा कि कहीं ये लोग कोरोना की नई स्ट्रेन का शिकार तो नहीं हैं। इन आठ पाजिटिव मरीजों को अमृतसर के निजी अस्पताल में दाखिल करवाया गया है। अन्य यात्रियों को सरकारी क्वारंटाइन सेंटर में भेजने की योजना है।

इंदौर आए 163 लोग

मध्य प्रदेश में अभी तक 405 लोगों के ब्रिटेन से आने की सूचना मिली है। इसमें से 25 नवंबर के बाद ब्रिटेन से 163 लोग इंदौर आए हैं। इन सभी लोगों को होम क्वारंटाइन किया गया है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार इनमें से जो लोग पॉजिटिव आएंगे, उनका कोविड गाइडलाइन के तहत स्वास्थ्य परीक्षण कर इलाज किया जाएगा। निगेटिव आने पर भी 10 दिन तक होम क्वारंटाइन रहना होगा।

यूपी सावधानी

उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग ने ऐसे लोग की आरटीपीसीआर जांच करने के निर्देश दिए हैं जो विदेश से सात दिसंबर के बाद यूपी आए हैं। रिपोर्ट नेगेटिव होने पर भी उन्हें 10 दिन होम क्वारंटाइन होना पड़ेगा। बता दें कि उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों में से 49 फीसद रोगी सिर्फ आठ जिलों में हैं। सबसे ज्यादा 2,822 मरीज लखनऊ में हैं।

अब साउथ अफ्रीका में मिला एक और ख़तरनाक स्ट्रेन

ब्रिटेन में कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन मिलने के बाद अब साउथ अफ्रीका में एक और नया स्ट्रेन मिला है जो पिछले नए वेरिएंट से कहीं ज़्यादा ख़तरनाक है। ब्रिटेन में जिन दो लोगों के इससे संक्रमित होने की पुष्टि हुई है, वो हाल ही में साउथ अफ़्रीका की यात्रा पर गए थे। ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री मैट हैनकॉन के मुताबिक़ साउथ अफ़्रीका में मिला ये नया स्ट्रेन ब्रिटेन में मिले नए स्ट्रेन से भी ज़्यादा तेज़ी से फैलने वाला और ज़्यादा म्यूटेटेड है। उन्होंने इस स्ट्रेन के प्रसार को बेहद चिंताजनक बताया। ताज़ा चिंताओं के मद्देनज़र दक्षिण अफ़्रीका की यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इसके अलावा, पिछले 15 दिनों में दक्षिण अफ़्रीका से लौटे या उनके संपर्क में आए लोगों को तुरंत क्वारंटीन होने के निर्देश दिए गए हैं।

ये भी पढ़ें: दिल्ली में कब, कैसे और कितने लोगों को लगाई जाएगी कोरोना की वैक्सीन, यहां जानें

दक्षिण अफ़्रीका के स्वास्थ्य मंत्री ज़्वेली मिख़ाइज़ ने बताया है कि इस नए स्ट्रेन की चपेट में आकर युवा और स्वस्थ लोग भी बुरी तरह बीमार पड़ रहे हैं। साउथ अफ़्रीकी वैज्ञानिकों ने कहा है कि नया स्ट्रेन बहुत तेज़ी से फैल रहा है और देश के कई हिस्सों को इसने बुरी तरह अपनी चपेट में ले लिया है। फ़िलहाल कोरोना वायरस के इस वेरिएंट का अध्ययन किया जा रहा है लेकिन अब तक जितनी जानकारी सामने आई है, उसके मुताबिक़ ये कई गुना ज़्यादा तेज़ी से फैलता है। ब्रिटेन और साउथ अफ्रीका के स्ट्रेन में ‘501वाई’ नाम का म्यूटेशन हुआ है जो शरीर की कोशिकाओं को प्रभावित करता है।

corona

वैक्सीन अपडेट

- अमेरिका में 10 लाख लोगों को फाइजर की वैक्सीन लग चुकी है और पूरे देश में जून तक सबको वैक्सीन लगाने की योजना है।

- फाइजर कंपनी मेरिका कें वैक्सीन की दस करोड़ और खुराकें सप्लाई करेगी।

- स्विट्ज़रलैंड और मेक्सिको में वैक्सीन लगाने का काम शुरू हो गया है।

- एक सर्वे के मुताबिक अमेरिका में 40 फीसदी लोग कोरोना वैक्सीन नहीं लगवाना चाहते।

- अमेरिका में वैक्सीन जागरूकता के लिए 25 करोड़ डालर का अभियान चलेगा।

- कनाडा ने मॉडर्ना वैक्सीन को मंजूरी दी।

- इजरायल में 1.5 फीसदी आबादी को वैक्सीन लगी।

- कोरोना के नए स्ट्रेन के खिलाफ फाइजर और मॉडर्ना ने टेस्टिंग शुरू की।

Newstrack

Newstrack

Next Story