वस्तुओं की तरह लगती थी बोलीं-60 हजार में बच्ची और डेढ़ लाख में बिकता था बच्चा

रुक्सर शेख ने पुलिस को बताया कि 2019 में उसने अपनी बच्ची को साठ हजार रुपये में बेचा था और डेढ़ लाख में बेटे को बेचा था। शाहजहां ने बताया था कि 2019 उसने अपने बेटे को 60,000 रुपये में धारावी स्थित एक परिवार को बेचा था।

Published by Aditya Mishra Published: January 18, 2021 | 3:15 pm
Baby

वस्तुओं की तरह लगती थी बोलीं - 60 हजार में बच्ची और डेढ़ लाख में बिकता था बच्चा(फोटो: सोशल मीडिया)

ठाणे: महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में क्राइम ब्रांच को बड़ी सफलता हाथ लगी है। क्राइम ब्रांच की टीम ने यहां पर ऐसे गिरोह का भांडाफोड़ किया है, जो नवजात शिशुओं को बेचने का काम करता था।

क्राइम ब्रांच ने जाल बिछाकर सात महिलाओं और दो पुरुषों यानि कुल नौ लोगों को धर दबोचा है। जिसके बाद से गिरफ्तार किए गये सभी आरोपियों को 21 जनवरी तक कस्टडी में भेज दिया है।

पूछताछ में अभी तक जो जानकारी निकलकर सामने आई है। उसके मुताबिक गिरोह में शामिल लोग 60,000 रुपये में नवजात बच्ची और डेढ़ लाख रुपये में बच्चे को बेचा करते थे।

Arrest
वस्तुओं की तरह लगती थी बोलीं – 60 हजार में बच्ची और डेढ़ लाख में बिकता था बच्चा(फोटो: सोशल मीडिया)

ट्रैक्टर रैली को लेकर को लेकर आज SC में हुई सुनवाई, यहां पढ़ें किसने क्या कहा?

छह महीनों में चार बच्चों को बेचा

शुरूआती जांच में पुलिस को मालूम पड़ा है कि पकड़े गये आरोपियों ने छह महीनों में चार बच्चों को बेचा गया है, हालांकि पुलिस को अंदेशा है कि बेचे गए बच्चों की संख्या इससे काफी अधिक भी हो सकती है।

पकड़े गये आरोपियों के नाम आरती हीरामणि सिंह, रुक्सर शेख, रुपाली वर्मा, निशा अहिर, गीतांजलि गायकवाड़ और संजय पदम सिंह हैं।

आरती ने पुलिस को बताया है कि वह पैथालॉजी में लैब टेक्निशियन काम करती है और इस पूरे गिरोह का संचालन उसी के जिम्मे है। क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार किये गये आरोपियों के खिलाफ आईपीसी और जुवेनाइल जस्टिस एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है। पुलिस ने आठ मोबाइल फोन को जब्त कर लिए हैं। इन फोन में बच्चों की फोटो और व्हाट्सएप चैट मिले हैं।

एक्सप्रेस-वे पर भीषण हादसा: आपस में टकराईं 10 से ज्यादा गाड़ियां, मची चीख-पुकार

Police
वस्तुओं की तरह लगती थी बोलीं – 60 हजार में बच्ची और डेढ़ लाख में बिकता था बच्चा(फोटो: सोशल मीडिया)

पुलिस को ऐसे पता चला था गिरोह के बारें में

पुलिस एसआई योगेश चव्हाण और क्राइम ब्रांच शाखा एक की मनीषा पवार को गिरोह की महिला की सूचना मिली। सूचना में पता चला कि एक महिला बच्चों को बेचने में लिप्ट है और बांद्रा ईस्ट में रहती है। जब इस बारे में जांच पड़ताल की गई तो पता चला कि रुक्सर शेख नाम की महिला है और उसने हाल ही में एक बच्ची को बेचा है।

जब रुक्सर शेख से पूछताछ की गई तो दूसरी महिला के बारे में पता चला। महिला ने बताया कि शाहजहां जोगिलकर ने रुपाली वर्मा के जरिए अपने बच्चे को पुणे स्थित एक परिवार को बेचा है। 14 जनवरी को पुलिस टीम ने रुक्सर, शाहजहां और रुपाली को हिरासत में लिया।

रुक्सर शेख ने पुलिस को बताया कि 2019 में उसने अपनी बच्ची को साठ हजार रुपये में बेचा था और डेढ़ लाख में बेटे को बेचा था। शाहजहां ने बताया था कि 2019 उसने अपने बेटे को 60,000 रुपये में धारावी स्थित एक परिवार को बेचा था।

PF Pension पर फैसला: सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई, मिल सकती है बड़ी राहत

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App