शाहिद अफरीदी ने गौतम गंभीर के खिलाफ उगला जहर, कह दी इतनी बड़ी बात

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी बीते कुछ दिनों से लगातार विवादित बयान देने के कारण सुर्खियां बटोर  रहे हैं वो भारत और उसके पूर्व क्रिकेटरों के बारे में उट-पटांग बोल रहे हैं। इस बार अफरीदी ने भारत के पूर्व बल्लेबाज गौतम गंभीर को औसत दर्जे का घमंडी खिलाड़ी बता दिया।

Published by suman Published: April 17, 2020 | 7:54 pm

नई दिल्ली पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी बीते कुछ दिनों से लगातार विवादित बयान देने के कारण सुर्खियां बटोर  रहे हैं वो भारत और उसके पूर्व क्रिकेटरों के बारे में उट-पटांग बोल रहे हैं। इस बार अफरीदी ने भारत के पूर्व बल्लेबाज गौतम गंभीर को औसत दर्जे का घमंडी खिलाड़ी बता दिया।

बता दें अफरीदी और गौतम गंभीर के रिश्ते हमेशा तल्खियों भरे रहे हैं। दोनों खेल के मैदान पर और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भिड़ते हुए नजर आते हैं। इस बीच शाहिद अफरीदी की आत्मकथा ‘गेम चेंजर’ एक बार फिर चर्चा में आ गई है। साल 2019 में प्रकाशित हुई इस किताब में अफरीदी ने गौतम गंभीर को लेकर टिप्पणियां की हैं। जो दो दशकों तक पाकिस्तान के लिए क्रिकेट खेलने वाले अफरीदी ने गंभीर को घमंडी करार दिया है।

 

यह पढ़ें… कुछ इस तरह धोनी रखते हैं अपनी वाइफ का ख्याल, तस्वीरें देख आप भी कहेंगे WOW

अफरीदी ने अपनी ऑटोबायॉग्राफी में लिखा कि उन्हें गौतम गंभीर और महान लेग स्पिनर शेन वॉर्न के खिलाफ खेलना बहुत पसंद था, क्योंकि ये दोनों ही स्लेजिंग पर प्रतिक्रिया देते थे। अपनी किताब में अफरीदी ने गंभीर के बारे में लिखा, कुछ प्रतिद्वंद्विता पर्सनल थी, कुछ प्रोफेशनल। लेकिन गंभीर का अनूठा केस था। बहुत खराब गौतम। वह और उनकी ऐटीट्यूड की समस्या।

अफरीदी ने इस किताब में लिखा, ‘गौतम गंभीर के साथ ऐटीट्यूड प्रॉब्लम थी। वह, जिनका कोई व्यक्तित्व नहीं, क्रिकेट जैसे महान खेल में उनके जैसा चरित्र (कैरेक्टर) शायद ही हो। वह, जिनके नाम कोई बड़ा रिकॉर्ड नहीं है, बस ढेर सारा ऐटीट्यूड है। वह, जो खुद को समझता है कि डॉन ब्रैडमैन और जेम्स बॉन्ड दोनों की काबिलियत रखने वाला है।’

गौतम गंभीर के रिकॉर्ड्स पर सवाल उठाने वाले अफरीदी शायद भूल गए कि भारत के पास दो विश्व कप खिताब में गौतम गंभीर की भूमिका अहम रही थी। गंभीर ने साल 2007 के खिताबी मुकाबले में पाकिस्तान के ही खिलाफ 75 रन बनाए थे, जिसमें भारत को जीत मिली थी। इसी तरह 2011 वर्ल्ड कप के फाइनल मुकाबले में उन्होंने 97 रन की पारी खेली थी। यहां भी टीम इंडिया ने यह खिताब अपने नाम किया था।

 

यह पढ़ें…ट्वीटर पर भिड़े पाकिस्तान के दिग्गज क्रिकेटर, बात इस हद तक पहुंच गई

गंभीर के अलावा अफरीदी ने अपनी इस किताब टीम इंडिया के उन तमाम खिलाड़ियों पर अपनी राय रखी है, जिनके साथ वह क्रिकेट खेले हैं। अफरीदी ने इस किताब में युवराज सिंह, हरभजन सिंह और अजय जडेजा की तारीफ की है और उन्हें अपना अच्छा दोस्त बताया है। इस ऑलराउंडर ने इन खिलाड़ियों के बारे में लिखा कि मैदान के बाहर हमने काफी वक्त एक-दूसरे के साथ बिताया है। लेकिन मैदान पर हम में कोई भी किसी को पसंद नहीं था।

इन पर भी साधा निशाना

शाहिद अफरीदी ने अपनी इस किताब में वीरेंद्र सहवाग पर भी निशाना साधा है. अफरीदी ने लिखा कि वीरेंद्र सहवाग सोशल मीडिया पर पाकिस्तान के खिलाफ नकरात्मक टिप्पणियां करते रहते हैं, क्या ये सही आचार है। शाहिद अफरीदी ने भले ही दूसरे भारतीय बल्लेबाजों के खिलाफ नकारात्मक कमेंट्स किये लेकिन सचिन तेंदुलकर को उन्होंने तकनीकी तौर पर सबसे मजबूत भारतीय बल्लेबाज बताया। अफरीदी ने अपनी बायोग्राफी में याद किया कि उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ 1996 में 37 गेंदों में शतक लगाने का कारनामा सचिन के बल्ले से ही किया था।