प्याज के दाम ने निकाले आंसू, 80 रुपये KG तक पहुंचा भाव, सरकार उठाएगी ये कदम

राष्ट्रीय राजधानी और देश के अन्य हिस्सों में प्याज के खुदरा भाव की तो यहां भी 70 से 80 रुपये प्रति किलोग्राम की ऊंचाई पर पहुंच चुका है। ऐसे में केंद्र सरकार प्याज व्यापारियों के भंडारण की सीमा तय करने पर विचार कर रही है।

Published by Aditya Mishra Published: September 22, 2019 | 3:07 pm

नई दिल्ली: प्याज के भाव आंसू निकालने लगे हैं। खुदरा मार्केट में प्याज की कीमत 70- 80 रुपये किलोग्राम तक पहुंच गई है। बात करे राष्ट्रीय राजधानी और देश के अन्य हिस्सों में प्याज के खुदरा भाव की तो यहां भी 70 से 80 रुपये प्रति किलोग्राम की ऊंचाई पर पहुंच चुका है। ऐसे में केंद्र सरकार प्याज व्यापारियों के भंडारण की सीमा तय करने पर विचार कर रही है।

सूत्रों का कहना है कि प्रमुख प्याज उत्पादक राज्यों में मानसून की भारी बारिश से आपूर्ति प्रभावित हुई है जिसकी वजह से इसकी कीमतों में उछाल आया है।

उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली में पिछले सप्ताह प्याज की खुदरा कीमत 57 रुपये किलो रही। वहीं मुंबई में यह 56 रुपये, कोलकाता में 48 रुपये और चेन्नई में 34 रुपये किलो थी। गुरुग्राम और जम्मू में प्याज 60 रुपये किलो पर पहुंच गया है।

हालांकि, आंकड़ों के अनुसार पिछले सप्ताह के अंत तक प्याज के खुदरा दाम 70 से 80 रुपये किलो पर पहुंच गए। इससे पिछले सप्ताह यह 50 से 60 रुपये किलो थे।

ये भी पढ़ें…प्याज की कीमतों पर नियंत्रण हमारे हाथ में नहीं : रामविलास पासवान

बढती कीमतों पर अंकुश लगाने में जुटी सरकार

केंद्र सरकार ने प्याज की आपूर्ति बढ़ाने के लिए कई कदम उठाए हैं। इसके बावजूद प्याज के दाम चढ़ रहे हैं।  एक सूत्र ने कहा कि सरकार ने पिछले कुछ सप्ताह के दौरान घरेलू आपूर्ति बढ़ाने और कीमतों पर अंकुश के लिए कई कदम उठाए हैं।

लेकिन पिछले दो-तीन दिन में उत्पादक राज्यों में भारी बारिश की वजह से आपूर्ति प्रभावित होने से प्याज की खुदरा कीमतों में भारी इजाफा हुआ है।

सूत्र ने कहा कि आपूर्ति में यह बाधा सीमित समय के लिए है। यदि अगले दो-तीन दिन में स्थिति सामान्य नहीं होती है तो सरकार व्यापारियों के लिए गंभीरता से भंडारण की सीमा तय करने पर विचार कर रही है।

ये भी पढ़ें…मध्य प्रदेश में प्याज खरीदी में गड़बड़झाला उजागर, सरकार में हड़कंप

यहां हो चुकी है भारी बारिश

मौसम विभाग के अनुसार प्रमुख प्याज उत्पादक क्षेत्रों विशेष रूप से महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, गुजरात, पूर्वी राजस्थान और पश्चिमी मध्य प्रदेश में पिछले दो दिन में अत्यधिक बारिश हुई है।

व्यापारियों का कहना है कि देश के ज्यादातर हिस्सों में अभी भंडारण वाला प्याज बेचा जा रहा है। खरीफ या गर्मियों की फसल नवंबर से बाजार में आएगी।

उधर नासिक मंडी में प्याज के भाव की बात करे तो यहां आज के दिन सबसे अच्छे प्याज का भाव 4700 रूपए क्विंटल है। इससे थोड़ी कम अच्छी प्याज 4000 रूपए प्रति क्विंटल और मीडियम प्याज 2000 रूपए क्विंटल बिक रहा है।

प्याज का ये वह भाव है जो किसानों ने नासिक के व्यापारी को बेचा है। व्यापारी मुनाफा और खर्च जोड़कर इसे बेचेंगे। खुदरा व्यापारियों तक आते-आते प्याज की कीमत दोगुनी तक पहुंच जाएगी।

कीमत इस बात पर भी निर्भर करता है कि वह किस इलाके में बिक रहा है। पॉश इलाके और ब्रांड रिटेल में कीमत ज्यादा होगी और लोकल मार्केट में कीमत मुकाबले में कम होगी।

ये भी पढ़ें…बारिश की तबाही: बलि चढ़ी प्याज, पूरे देश में मच गया बवाल

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App