×

पालघर लिंचिंग मामला: साधुओं की हत्या में शामिल 5 लोग हुए गिरफ्तार

पालघर में हुए लिंचिंग के मामले से जुड़े होने के चलते 5 अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने यह भी बताया कि अब तक इस मामले में 115 लोगों की गिरफ्तारी की जा चुकी है।

SK Gautam
Updated on: 1 May 2020 1:14 PM GMT
पालघर लिंचिंग मामला: साधुओं की हत्या में शामिल 5 लोग हुए गिरफ्तार
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

महाराष्ट्र: पिछले दिनों महाराष्ट्र के पालघर में अज्ञात भीड़ द्वारा माब लिंचिंग करते हुए दो साधुओं और ड्राइवर की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी। इस संबंध में महाराष्ट्र के अधिकारियों ने बताया कि पालघर में हुए लिंचिंग के मामले से जुड़े होने के चलते 5 अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने यह भी बताया कि अब तक इस मामले में 115 लोगों की गिरफ्तारी की जा चुकी है।

करीब 200 लोगों की भीड़ ने दो साधुओं और ड्राइवर की पीट-पीटकर कर दी गई थी हत्या

बता दें कि पालघर जिले में करीब 200 लोगों की भीड़ ने चोर होने के शक में तीन लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी गयी थी। बाद में इनमें से 2 लोगों के साधु होने की पुष्टि हुई, जबकि तीसरा शख्स ड्राइवर बताया गया। यह घटना उस समय हुई, जब गुरुवार रात ये लोग मुंबई के कांदीवली से कार में सवार होकर गुजरात के सूरत जा रहे थे। घटना को लेकर विपक्ष, उद्धव सरकार पर लगातार हमलवार है।

दो पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया था

मृतकों की पहचान महाराज कल्पवृक्षगिरी (70), सुशीलगिरी महाराज (35) और चालक निलेश तेलगड़े (30) के रूप में की गई। महाराष्ट्र सरकार ने घटना की उच्च-स्तरीय जांच के आदेश दिए और ड्यूटी में लापरवाही बरतने के आरोप में सोमवार को पालघर के दो पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया।

ये भी देखें: जारी हुआ ऑनलाइन फॉर्म, फंसे छात्र-छात्राओं को घर भेजने की तैयारी

CM उद्धव ठाकरे ने बताया था सांप्रदायिकता नहीं अफवाह का मामला

शुरुआत में इस मामले में सांप्रदायिक हिंसा का शक जाहिर किया गया था। जिसके बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और गृह मंत्री दोनों ने ही इस मामले में सफाई दी थी और कहा था कि इस मामले में सांप्रदायिक हिंसा जैसा कुछ भी नहीं है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मामले को सांप्रदायिकता का नहीं अफवाह का मामला भी कहा था।

SK Gautam

SK Gautam

Next Story