Top

जम्मू कश्मीर में पंचायत उपचुनाव का ऐलान, जानिए कब कहा होंगे

जम्मू कश्मीर पंचायत उपचुनाव का एलान हो चुका है। मुख्य चुनाव अधिकारी ने बताया कि पहले चरण के चुनाव पांच मार्च को होंगे। वहीं दूसरे, तीसरे, चौथे, पांचवें...

Deepak Raj

Deepak RajBy Deepak Raj

Published on 13 Feb 2020 3:38 PM GMT

जम्मू कश्मीर में पंचायत उपचुनाव का ऐलान, जानिए कब कहा होंगे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर पंचायत उपचुनाव का एलान हो चुका है। मुख्य चुनाव अधिकारी ने बताया कि पहले चरण के चुनाव पांच मार्च को होंगे। वहीं दूसरे, तीसरे, चौथे, पांचवें, छठे, सातवें और आठवें चरण के चुनाव क्रमशः सात मार्च, नौ मार्च, बारह मार्च, चौदह मार्च, सोलह मार्च, अठारह मार्च और बीस मार्च को होंगे।

ये भी पढ़ें- सीएए के विरोधियो के खिलाफ सख्त हुई योगी सरकार, उठाया ये बड़ा कदम

जम्मू-कश्मीर के मुख्य निर्वाचन अधिकारी शैलेन्द्र कुमार ने बताया कि अब से आदर्श आचार संहिता लागू कर दी गई है। यह उन सभी जगहों पर लागू होगी, जहां चुनाव होने हैं। उपचुनाव 8 चरणो में होंगे।

लद्दाख में भारी बर्फबारी के कारण नहीं होंगे चुनाव

वहीं केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख में चुनावों को लेकर उन्होंने कहा कि वहां से अभी तक हमें चुनाव कराने के लिए अनुरोध नहीं भेजा गया है, इसलिए अभी लद्दाख को शामिल नहीं किया गया है। साथ ही लद्दाख में भारी बर्फबारी और मौसम ठीक न होने की वजह से इस समय चुनाव होना संभव नहीं है।

ये भी पढ़ें- केंद्र की इस योजना का धज्जियां उड़ाता यूपी सरकार का ये जिला

गौरतलब है कि पिछले एक महीने में केंद्र शासित प्रदेश के दौरे पर आए विदेश राजनयिकों का यह दूसरा जत्था है। इससे पहले सरकार 15 विदेशी राजनयिकों का एक दल जम्मू कश्मीर के दौरे पर ले गई थी जिसका लक्ष्य उन्हें यह दिखाना था कि कश्मीर घाटी में हालात सामान्य करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। अनेक विपक्षी दलों ने इसे ‘‘गाइडेड टूर'' बताया है।

2018 में हुए पंचायत चुनाव का पीडीपी व नेशनल कांफ्रेस ने बाहिष्कार किया था

आप को बता दें कि साल 2018 में हुए पंचायत चुनाव में दो प्रमुख पार्टी नेशनल कॉंफ्रेस और PDP ने चुनाव का बहिष्कार किया था जिसके बाद लगभग 12 हजार सीटे खाली रह गई थी। इधर कश्मीर के हालत का जायजा लेने के लिए आए विदेशी राजनयिकों के प्रतिनिधिमंडल को सेना के अधिकारियों ने गुरूवार को सुरक्षा हालात के बारे में जानकारी दी।

Deepak Raj

Deepak Raj

Next Story