रामदेव की पतंजलि ने बनाया रिकाॅर्ड, सिर्फ 6 महीने में कमाएं इतने हजार करोड़ रुपए

योग गुरू बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद की बिक्री में गिरावट दर्ज की गई थी, लेकिन अब वह एक बार फिर से पटरी पर लौट आई है। बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद ने 6 महीने में बंपर कमाई की है।

नई दिल्ली: योग गुरू बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद की बिक्री में पिछले दिनों गिरावट दर्ज की गई थी, लेकिन अब वह एक बार फिर से पटरी पर लौट आई है। बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद ने 6 महीने में बंपर कमाई की है।

पतंजलि आयुर्वेद की आमदनी मौजूदा वित्त वर्ष के पहले छह महीने (अप्रैल से सितंबर) में 3,562 करोड़ रुपये पहुंच गई है। पतंजलि ने अपने जारी बयान में कहा है कि यह किसी भी वित्त वर्ष में हुई अब तक की रिकॉर्ड आमदनी है।

यह भी पढ़ें…चिदंबरम की जमानत याचिका पर SC ने टाली सुनवाई, अब इस दिन होगा फैसला

बता दें कि कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया था कि कि दो साल पहले लागू हुए वस्तु एवं सेवा कर (GST) की वजह से पतंजलि को नुकसान हुआ।

उत्तराखंड के हरिद्वार में स्थित पतंजलि आयुर्वेद को वित्त वर्ष 2019-20 की पहली तिमाही यानी अप्रैल-जून के दौरान 1,793 करोड़ रुपये की आमदनी हुई है। वहीं जुलाई-सितंबर तिमाही में कंपनी की आमदनी 1769 करोड़ रुपये रही।

यह भी पढ़ें…JNU बवाल: नेत्रहीन छात्रों को पुलिस बस में बैठा कर ले गई थाने

बीते साल 2018 की अप्रैल-जून तिमाही में कंपनी की आमदनी 937 करोड़ रुपये थी, तो वहीं जुलाई-सितंबर में यह 1576 करोड़ रुपये रही थी। हालांकि कंपनी की ओर से मुनाफे का कोई भी आंकड़ा जारी नहीं किया गया है।

कंपनी के प्रवक्ता एस के तिजारावाला ने बताया है कि पतंजलि आयुर्वेद अपनी प्रोडक्ट लाइन में बदलाव कर उसे और बेहतर कर रही है। पिछले कुछ दिनों में प्रोडक्ट लाइनें, जो पहले पतंजलि संभालती थी अब उन्हें कई अन्य कंपनियों को सौंप दिया गया है। पतंजलि FMCG के साथ-साथ आयुर्वेदिक दवाओं का कारोबार भी करती है।

यह भी पढ़ें…सावधान: इन राज्यों में होगी भीषण बारिश, दिल्ली-एनसीआर में बढ़ेगा प्रदूषण

पतंजलि के सीईओ आचार्य बालकृष्ण ने हाल ही में कहा था कि दो साल पहले लागू हुए वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के कारण पतंजलि को नुकसान हुआ है। बालकृष्ण का कहना है कि जीएसटी के कारण कंपनी ट्रेड, सप्लाई और डिस्ट्रीब्यूशन चैनल में सामंजस्य स्थापित नहीं कर पाई है, जिससे नुकसान बढ़ा।