तो….. इसलिए पीएम मोदी ने लोकसभा के नए स्पीकर के लिए ‘ओम बिड़ला’ को चुना

राजस्थान के कोटा से बीजेपी सांसद ओम बिड़ला लोकसभा के नए स्पीकर होंगे। लोकसभा अध्यक्ष का नाम घोषित किए जाने के साथ ही पीएम मोदी ने एक बार फिर अपने फैसले से सबको चौंका दिया है।

नई दिल्ली: राजस्थान के कोटा से बीजेपी सांसद ओम बिड़ला लोकसभा के नए स्पीकर होंगे। लोकसभा अध्यक्ष का नाम घोषित किए जाने के साथ ही पीएम मोदी ने एक बार फिर अपने फैसले से सबको चौंका दिया है। ओम बिड़ला ने राजनीति को राजनीति से उपर उठ कर देखा। वे विभिन्न माध्यमों के द्वारा सामाजिक सेवा, राष्ट्र सेवा, गरीब, वृ्द्ध, विकलांग और असहाय महिलाओं की सहायता करने में रुचि रखते हैं।

यह भी देखें… बिहार: चमकी बुखार के चपेट में आये 107 मासूम, CM आज करेंगे मुजफ्फरपुर का दौरा

ओम बिड़ला विभिन्न माध्यमों के द्वारा सामाजिक सेवा, राष्ट्र सेवा, गरीब, वृ्द्ध, विकलांग और असहाय महिलाओं की सहायता करने में रुचि रखते हैं। उन्होंने विभिन्न सामाजिक संगठनों के माध्यम से विकलांग, कैंसर रोगियों और थैलेसेमिया रोगियों की मदद की हैं। विकलांगों को मुफ्त साइकिलें, व्हीलचेयर और कान की मशीन प्रदान की गई। बढ़ते प्रदूषण की जांच और हरियाली में कमी के लिए कोटा में लगभग एक लाख पेड़ लगाने के लिए उन्होंने एक प्रमुख “ग्रीन कोटा वन अभियान” लॉन्च किया।

नेहरू युवा केंद्र के माध्यम से देश के ग्रामीण क्षेत्रों में खेल और सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित करने की एक प्रमुख योजना तैयार करके ग्रामीण क्षेत्रों में प्रतिभाशाली युवाओं को बढ़ावा देने के लिए आंदोलन का नेतृत्व किया। उन्होंने राजस्थान के बारा जिला में सहिया आदिवासी इलाके में कुपोषण और अर्ध-बेरोजगारी को हटाने के लिए मिशन का नेतृत्व किया।

ओम बिड़ला का जन्म 4 दिसंबर 1962 को हुआ था। वह भारतीय जनता पार्टी से सक्रिय राजनेता और राजस्थान राज्य के कोटा-बुंदी निर्वाचन क्षेत्र से 16 वीं लोकसभा में संसद सदस्य हैं। वे कोटा साउथ से तीन बार राजस्थान विधान सभा के सदस्य थे।

यह भी देखें… सिख ड्राईवर पिटाई मामले में मुखर्जी नगर थाने का घेराव, गृह मंत्रालय ने मांगी रिपोर्ट

रोचक तथ्‍य राजस्थान सरकार के संसदीय सचिव के रूप में कार्यकाल के दौरान उन्होंने गरीब, असहाय, गंभीर मरीजों को राज्य सरकार के माध्यम से 50 लाख की वित्तीय सहायता प्रदान करके उनकी सहायता की। उन्होंने बाढ़ पीड़ितों की मदद की और राहत अभियान में राहत दल का नेतृत्व किया और 15-16 अगस्त 2004 को कोटा शहर में बाढ़ पीड़ितों को आश्रय और चिकित्सा सुविधाएं प्रदान की। उन्होंने विभिन्न सामाजिक संगठनों के माध्यम से विकलांग, कैंसर रोगियों और थैलेसेमिया रोगियों की मदद की। विकलांगों को मुफ्त साइकिलें, व्हीलचेयर और श्रवण सहायता प्रदान की।