MP में सियासी हलचल तेज, बंधक विधायकों से सीएम कमलनाथ ने की मुलाकात

भोपाल पहुंचने के बाद स्टेट हैंगर में मंत्री तरुण भनोत, कुणाल चौधरी एक साथ देखे गए। सीएम आवास के बाहर काफी तेज हलचल चल रही है। यहां पर कमलनाथ सरकार के मंत्रियों का पहुंचना लगातार जारी है। यहां सुरक्षा व्यवस्था काफी सख्त की गई है।

Published by suman Published: March 4, 2020 | 8:05 pm

भोपाल: बुधवार दोपहर बाद कथित तौर पर बंधक बनाए गए एमपी कांग्रेस के चार विधायक भोपाल पहुंच गए। सभी विधायक अब मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ से मुलाकात करने सीएम हाउस के पहुंचे। एमपी सरकार के मंत्री तरुण भनोत इन विधायकों के साथ मौजूद थे। भोपाल पहुंचने के बाद स्टेट हैंगर में मंत्री तरुण भनोत, कुणाल चौधरी एक साथ देखे गए। सीएम आवास के बाहर काफी तेज हलचल चल रही है। यहां पर कमलनाथ सरकार के मंत्रियों का पहुंचना लगातार जारी है। यहां सुरक्षा व्यवस्था काफी सख्त की गई है।

 

यह पढ़ें…योगी सरकार के तीन साल पूरे होने पर उपलब्धियों को जन-जन तक पहुंचाएगी भाजपा

वहीं मंत्री तरुण भनोत ने जानकारी दी कि चार विधायकों को भोपाल लाया गया है। भनोत ने मीडिया से कहा कि इस घटनाक्रम के पीछे बीजेपी है, जो सत्ता को पाने के लिए ऐसा कर रही है। उन्होंने जल्द इससे संबंधित सबूत देने की भी बात भी कही। उन्होंने कहा कि विधायकों में नाराजगी रही होगी, लेकिन बीजेपी बिना फ्लोर टेस्ट के सत्ता में आना चाहती है। ऐसा उन्होंने कर्नाटक में भी किया था।

हालांकि अभी तक इस बात की जानकारी नहीं मिली है कि विधायकों को कहां रखा गया था। सभी विधायकों को चार्टड प्लेन से भोपाल लाया गया है। इनमें संजीव सिंह कुशवाह और राजेश बब्लू शुक्ला भी शामिल हैं।

दरअसल, मंगलवार देर रात से शुरू हुए इस घटनाक्रम में कहा गया था कि बीजेपी ने कथित तौर पर कांग्रेस के 11 विधायकों को हरियाणा के गुरुग्राम के एक होटल में बंधक बनाकर रखा था। कांग्रेस नेता पीसी शर्मा ने आरोप लगाया था कि कमलनाथ सरकार अस्थिर करने को लेकर बीजेपी ने 11 विधायकों को पाला बदलने के लिए 35 करोड़ रुपये का ऑफर दिया था।

 

यह पढ़ें…पंचायत चुनाव की तैयारियों में जुटी कांग्रेस, जिलाध्यक्षों को जारी हुए ये खास निर्देश

इस मामले में एमपी के सीएम कमलनाथ ने बीजेपी पर माफिया की मदद से कांग्रेस की सरकार को गिराने के प्रयास करने का आरोप लगाया है। सीएम ने कहा कि कांग्रेस सरकार को विधानसभा में पूर्ण बहुमत में है, जिसे हमने बजट के पास होने और विधानसभा स्पीकर और डिप्टी स्पीकर के चुनाव के दौरान दिखाया था।