Top

ताबड़तोड़ छापेमारी: NIA से कांपे आतंकी, पंजाब में रची जा रही थी साजिश

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने पंजाब में 29 लाख रुपये के साथ हिजबुल मुजाहिदीन के संचालक की गिरफ्तारी के बाद बीते साल दर्ज एक मामले में दो कथित नार्को-आतंकवादियों के खिलाफ एक पूरक आरोप पत्र दायर किया।

Vidushi Mishra

Vidushi MishraBy Vidushi Mishra

Published on 7 Jan 2021 6:17 AM GMT

ताबड़तोड़ छापेमारी: NIA से कांपे आतंकी, पंजाब में रची जा रही थी साजिश
X
पूरक चार्जशीट गुरदासपुर के नार्को आतंकवादी जसवंत सिंह उर्फ "जस्सा" और तरनतारन के गुरसंत सिंह उर्फ ​​"गोरा" के खिलाफ दायर की गई।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

जम्मू: पंजाब में मंगलवार को यानी बीते दिन राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने 29 लाख रुपये के साथ हिजबुल मुजाहिदीन के संचालक की गिरफ्तारी के बाद बीते साल दर्ज एक मामले में दो कथित नार्को-आतंकवादियों के खिलाफ एक पूरक आरोप पत्र दायर किया। जबकि इससे पहले हिजबुल मुजाहिदीन (एचएम) के नार्को-टेरर केस में 10 अक्टूबर को 10 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई थी। बता दें, इसमें कश्मीर स्थित आतंकी संगठन का प्रमुख रियाज अहमद नाइकू भी शामिल था।

ये भी पढ़ें... योगी से कांपे आतंकी: UP में अब ISI का खेल खत्म, खुल रहा ये ताकतवर थाना

पाकिस्तान से तस्करी की गई हेरोइन

ऐसे में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) के प्रवक्ता ने कहा कि पूरक चार्जशीट गुरदासपुर के नार्को आतंकवादी जसवंत सिंह उर्फ "जस्सा" और तरनतारन के गुरसंत सिंह उर्फ ​​"गोरा" के खिलाफ दायर की गई। उन्होंने कहा कि आरोपी व्यक्ति पाकिस्तान से तस्करी की गई हेरोइन के संग्रह, वितरण और बिक्री में शामिल थे और एचएम की आगे की गतिविधियों के लिए आय का संग्रह और चैनलाइजेशन भी किया।

इसमें जम्मू-कश्मीर के पुलवामा के बिकल सिंह, गगनदीप सिंह, रंजीत सिंह और मनिंदर सिंह (अमृतसर), और रणजीत सिंह और जसवंत सिंह (गुरदासपुर) के खिलाफ पहले आरोप पत्र दायर किया गया था।

terror फोटो-सोशल मीडिया

एनआईए के प्रवक्ता ने कहा कि अमृतसर के इकबाल सिंह और जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग के जफर हुसैन भट को छोड़कर सभी को गिरफ्तार किया गया है। इकबाल सिंह फरार है जबकि भट पाकिस्तान में छिपा हुआ है।

ये भी पढ़ें...मेरठ का लाल शहीद: पुलवामा आतंकी हमले में गई जान, रो उठा पूरा जिला

29 लाख रुपये की वसूली

आगे प्रवक्ता ने कहा कि बीते साल 25 अप्रैल को अमृतसर के सदर पुलिस स्टेशन में शेरगोजरी की गिरफ्तारी और पंजाब पुलिस द्वारा उसके कब्जे से 29 लाख रुपये की वसूली के बाद मामला दर्ज किया गया था।

बता दें, राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने बीते साल 8 मई को मामले की जांच शुरू की। ऐसे में जांच के दौरान अभियुक्त, जो धन इकट्ठा करने के लिए अमृतसर आया था, वही अभियुक्त आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन का सदस्य और नाइकू का करीबी सहयोगी था। जिससे हेरोइन की तस्करी और बिक्री में शामिल एक बड़े नार्को-टेरर मॉड्यूल का खुलासा हुआ।

ये भी पढ़ें...उंगलियों में छिपे हैं राजः पार्टनर की खुल जाएगी पोल, सीख लें हस्तरेखा के ये गूढ़ रहस्य

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Desk Editor

Next Story