राफेल: चौकीदार चोर वाले बयान पर राहुल ने जताया खेद, BJP पर खड़े किए सवाल

बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी की तरफ से दायर अवमानना मामले पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को अपना जवाब सुप्रीम कोर्ट में दाखिल किया। चौकीदार चोर है वाले बयान पर कांग्रेस अध्यक्ष ने खेद जताया है, लेकिन माफी नहीं मांगी है।

लोकसभा सचिवालय आंकड़े

नई दिल्ली: बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी की तरफ से दायर अवमानना मामले पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को अपना जवाब सुप्रीम कोर्ट में दाखिल किया। चौकीदार चोर है वाले बयान पर कांग्रेस अध्यक्ष ने खेद जताया है, लेकिन माफी नहीं मांगी है।

नए हलफनामे में राहुल गांधी ने कहा है कि राजनीतिक लड़ाई में कोर्ट को घसीटने का उनका कोई इरादा नहीं है। उन्होंने मीनाक्षी लेखी पर अवमानना याचिका के जरिए राजनीति करने का आरोप लगाया है। मामले में मंगलवार को सुनवाई होनी है।

बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी द्वारा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ कोर्ट की अवमानना को लेकर दाखिल की गई याचिका पर आज एक बार फिर सुनवाई होनी थी। इससे पहले मीनाक्षी और राहुल के पक्ष की तरफ से जवाब देने के लिए समय मांगा गया था।

यह भी पढ़ें…बेटे सनी के लिए ‘हीमैन’ धर्मेंद्र ने की भावुक अपील, पढ़कर हो जाएंगे इमोशनल

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुआई वाली बेंच के सामने पेश हुए राहुल गांधी के वकील सुनील फर्नांडीज ने कहा कि उन्हें अवमानना नोटिस का जवाब देने की इजाजत दी जाए। सीजेआई रंजन गोगोई, जस्टिस दीपक गुप्ता और जस्टिस संजीव खन्ना की बेंच ने राहुल गांधी के वकील को काउंटर ऐफिडेविट दाखिल करने की इजाजत दे दी। सुप्रीम कोर्ट ने 23 अप्रैल को राहुल गांधी को आपराधिक अवमानना नोटिस जारी किया।

सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अवमानना मामले में सुप्रीम कोर्ट में अपना जवाब दाखिल कर पुरानी दलीलों को ही आधार बनाया और कहा कि उनका मकसद सुप्रीम कोर्ट का अपमान करना नहीं था। हालांकि, इसी बहाने उन्होंने भारतीय जनता पार्टी को घेरा और कहा कि बीजेपी भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले को राफेल मामले में क्लीन चिट बनाकर बाहर फायदा उठा रही है।

यह भी पढ़ें…लखनऊ: निर्दलीय प्रत्याशी संजय सिंह राणा ने विधान भवन के सामने किया आत्मदाह का प्रयास,हिरासत में

राहुल ने अपने हलफनामे में कहा कि मीनाक्षी लेखी की याचिका को जुर्माने के साथ खारिज किया जाए। उन्होंने कहा कि बीजेपी कोर्ट का इस्तेमाल राजनीतिक प्रचार में घसीट रही है।