राहुल गांधी से बोले राजीव बजाज- सरकार मजदूरों को 6 महीने तक दें पैसा

राहुल ने संवाद कार्यक्रम के तहत आज बजाज ऑटो के मैनेजिंग डायरेक्टर राजीव बजाज से बातचीत की। दोनों के बीच वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये सवाल जवाब हुए।

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक कार्यक्रम शुरू किया है, जिसके तहत कोरोना संकट के कारण देश की बिगड़ी हुई सामाजिक और आर्थिक स्थिति पर एक्सपर्ट्स से बात की जाती है। राहुल ने संवाद कार्यक्रम के तहत आज बजाज ऑटो के मैनेजिंग डायरेक्टर राजीव बजाज से बातचीत की। दोनों के बीच वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये सवाल जवाब हुए।

राहुल और राजीव बजाज के बीच चर्चा:

राहुल गांधी: विश्व युद्ध में भी कभी ऐसे हालात हुए कि दुनिया लॉक हो गई हो?

राजीव बजाज का जवाब: दुनिया के कई देशों में मेरे रिश्तेदार और दोस्त हैं और वहां भी लॉकडाउन हुआ लेकिन ऐसा कहीं नहीं था। वह बाहर घूमने जा सकते थे। वे लोग बेहतर परिस्थिति में थे। भारत में एक तरह का ड्रैकियन लॉकडाउन है, ऐसा लॉकडाउन कहीं पर भी नहीं हुआ है

ये भी पढ़ेंः बड़ी कामयाबी: कोरोना से जंग में यूं मिल रही जीत, 90 फीसदी मरीजों में हल्के लक्षण

राहुल का सवाल: भारत में कुछ लोग इस संकट से निपट सकते हैं, लेकिन करोड़ों मजदूर मुश्किल में हैं?

राजीव बजाज का जवाब:कोरोना ने बीमारी ने विकसित देशों पर चोट पहुंचाई है। क्योंकि जब अमीर और प्रसिद्ध लोग इससे प्रभावित होते हैं तो यह हेडलाइन बनती है। अफ्रीका में हर दिन 8000 बच्चे भूख से मरते हैं, लेकिन हेडलाइन नहीं बनती है।

उन्होने सुझाव दिया कि हमें जापान और स्वीडन की तरह नीति अपनानी चाहिए थी। वहां पर नियमों का पालन हो रहा है, लेकिन लोगों के लिए जीवन को मुश्किल नहीं बनाया जा रहा है।

ये भी पढेंः तैयारियां शुरू: LAC पर कभी भी छिड़ सकता है युद्ध, तैनात हुई बोफोर्स आर्टिलरी

राहुल का सवाल: सरकार लोगों के हाथ में पैसा क्यों नहीं दे रही है?

राजीव बजाज का जवाब: भारत मुश्किल से बच नहीं सकता है, खुद को निकालना पड़ेगा। मजदूरों को अगर 6 महीने तक ही पैसा दिया जाए तो मार्केट में डिमांड बढ़ेगी।

राहुल का सवाल: अर्थव्यवस्था को कैसे ठीक करें, मैन्युफैक्चरिंग पर कैसे जोर दिया जाए?

राजीव बजाज का जवाब: दुनिया की नजरेंं भारत की मैन्युफैक्चरिंग पर हैं, ब्राजील बजाज की नीति की तारीफ करता है। कंपनियों को स्पेशलिस्ट बनना होगा।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।