भीड़ का हमला, कुछ इस तरह जान बचाई कोरोना टीम ने

रांची के हिंदपीढ़ी इलाके में तीन लोगों के कोरोना पॉजिटिव होने की खबर पर 13 अप्रैल की रात मरीजों को ले जाने के लिए पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम पर स्थानीय लोगों ने बोला हमला।

भीड़ का हमला, कुछ इस तरह जान बचाई कोरोना टीम ने

भीड़ का हमला, कुछ इस तरह जान बचाई कोरोना टीम ने

रांची: खबर है कि राजधानी रांची में लोगों ने जमकर कोरोना वॉरियर्स पर पत्थर और ईंट बरसाए। दरअसल, रांची के हिंदपीढ़ी इलाके में तीन लोगों के कोरोना पॉजिटिव होने की खबर पर 13 अप्रैल की रात स्वास्थ्य विभाग की टीम हिंदपीढ़ी पहुंची। इस दौरान इनके साथ पुलिस की टीम भी मौजूद थी। जब ये टीम इलाके में पहुंची तो स्थानीय लोगों ने जमकर विरोध किया।

स्वास्थ्य विभाग की टीम पर किया गया हमला

सूत्रों के मुताबिक, कोरोना पॉजिटिव मरीजों को अस्पताल ले जाने के लिए पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम पर स्थानीय लोगों ने हमला कर दिया। कुर्बान चौक के लोगों ने लाइट्स बुझाकर उन पर हमला बोल दिया। गुस्साए लोगों का कहना था कि कोरोना मरीजों को आधी रात में ले जाना ठीक नहीं है, इसके लिए एक समय निर्धारित होना चाहिए।

यह भी पढ़ें: कोरोना मृतकों पर बड़ा आदेश, अब संक्रमित शवों के साथ होगा ऐसा…

स्थानीय लोगों ने ईंट-पत्थर फेंक कर किया हमला

मिली जानकारी के मुताबिक, कोरोना संदिग्ध मरीजों को अस्पताल ले जाने के लिए चार एंबुलेंस और उसकी सुरक्षा में कई पीसीआर वैन और स्वास्थ्य कर्मियों पहुंची थी, जिन पर ईंट-पत्थर फेंक कर हमला किया गया। यहां तक कि एक एंबुलेंस को तोड़ दिया गया। आक्रोशित लोगों से बचने के लिए एंबुलेंस ड्राइवर अनिल और भेंगरा ने थाने में जाकर अपनी जान बचाई। वहीं पुलिस बल को भी अपने कदम पीछे खींचने पड़े।

सामने आए स्वास्थ्य कर्मियों के साथ अभद्रता के कई मामले

बता दें कि कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए पूरे हिंदपीढ़ी इलाके को पिछले तीनों दिनों से सील कर दिया गया है। वहीं हिंदपीढ़ी को कोरोना मुक्त कराने के लिए और स्वास्थ्य सेवाओं को उपलब्ध कराने के लिए स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम की टीम जुटी हुई हैं। लेकिन इस दौरान इन स्वास्थ्य कर्मियों के साथ अभद्रता की कई मामले सामने आ चुके हैं।

यह भी पढ़ें: भारत में तीन मई तक सभी देशवासियों को लॉकडाउन में रहना होगा: पीएम मोदी

असमाजिक तत्वों ने बोला हमला

इस मामले की जानकारी देते हुए रांची के सिविल सर्जन वीबी प्रसाद ने कहा कि सोमवार को (13 अप्रैल) को राज्य में 5 नए कोरोना मरीजों की पहचान हुई थी, जिनमें से 3 मरीज हिंदपीढ़ी के थे। सूचना मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम प्रशासन की सुरक्षा में हिंदपीढ़ी गई थी। लेकिन इस दौरान इन लोगों पर असमाजिक तत्वों ने हमला कर दिया।

3 में से एक ही मरीज पहुंच सका अस्पताल

हमले में एक एंबुलेंस को भी नुकसान पहुंचाया गया। वीबी प्रसाद ने कहा कि कोरोना पॉजिटिव पाए गए 3 लोगों में से केवल एक अस्पताल पहुंच सका। जबकि 2 अभी भी उसी इलाके में हैं। उन्होंने कहा कि 14 अप्रैल की सुबह दोनों पॉजिटिव मरीजों को और इनके संपर्क में आए लोगों को हॉस्पिटल और आइसोलेशन वार्ड में भेजा जाएगा।

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन-2 में मिलेगी इन्हें छूट, 20 अप्रैल तक परखने के बाद होगा ये फैसला