Top

बहुते क्रांतिकारी! सचिन तेंदुलकर ने बनवाई महिला हज्जाम से दाढ़ी

पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर के लिए महिला हज्जाम नेहा और ज्योति से 'पहली बार दाढ़ी बनवाना' गर्व का पल रहा होगा। आपको बता दें, तेंदुलकर ने ऐसा लिंग संबंधित रूढ़िवादिता को तोड़ने में अपना योगदान देने के लिए किया है।

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 4 May 2019 10:54 AM GMT

बहुते क्रांतिकारी! सचिन तेंदुलकर ने बनवाई महिला हज्जाम से दाढ़ी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मुंबई : पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर के लिए महिला हज्जाम नेहा और ज्योति से 'पहली बार दाढ़ी बनवाना' गर्व का पल रहा होगा। आपको बता दें, तेंदुलकर ने ऐसा लिंग संबंधित रूढ़िवादिता को तोड़ने में अपना योगदान देने के लिए किया है।

तेंदुलकर ने इंस्टाग्राम पर पोस्ट कर लिखा, आप शायद इसे नहीं जानते, लेकिन मैंने कभी भी किसी से शेव नहीं बनवायी। आज यह रिकार्ड टूट गया। इन महिला हज्जाम से मिलना सम्मान की बात है। तेंदुलकर ने इन दोनों को जिलेट स्कालरशिप भी प्रदान की।

ये भी देखें : अनन्या पांडेे सी खूबसूरती की जब हो बात, इस्तेमाल करे तब चावल-भात

आपको बता दें, इस पेशे में अभी तक पुरूषों का वर्चस्व रहा है लेकिन यूपी के बनवारी तोला गांव की नेहा और ज्योति ने अपने पिता के बीमार होने के बाद 2014 में इस पेशे को संभालने का फैसला लिया। शुरू में लोग महिला हज्जाम से दाढ़ी नहीं बनवाते न ही बाल कटवाते थे। इसके बाद जिलेट इंडिया ने अपने विज्ञापन में उनकी प्रेरणादायी कहानी को देश के सामने रखा, जिसे लोग काफी पसंद कर रहे हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story