SBI का बड़ा ऐलान: ग्राहकों को मिली खुशखबरी, अब होगा फायदा ही फायदा

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने अपने ग्राहकों के लिए एक बड़ा ऐलान किया है। दरअसल, SBI ने MCLR में कटौती की है। बैंक ने अपने एक बयान में कहा है कि सभी अवधि के लिए MCLR में कटौती की गई है।

नई दिल्ली: स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने अपने ग्राहकों के लिए एक बड़ा ऐलान किया है। दरअसल, SBI ने MCLR में कटौती की है। बैंक ने अपने एक बयान में कहा है कि सभी अवधि के लिए MCLR में कटौती की गई है। MCLR में 10 बेसिस प्वांइट यानी 0.10 प्रतिशत की कटौती की गई है। अब MCLR  का ब्याज दर 1 साल में 8.25 प्रतिशत से घटकर 8.15 प्रतिशत हो गई है। ये नई दरें 10 सितंबर से लागू होंगी। MCLR  घटने के बाद अगर आप होम लोन, पर्सनल लोन या ऑटो लोन (SBI Loan Products) लेते हैं तो आपके लिए ये बड़ी खुशखबरी है। साथ ही अगर आप इन बैकों के मौजूदा ग्राहक हैं तो आपको इन घटे हुए दरों का फायदा मिलेगा।

यह भी पढ़ें: SBI का बड़ा तोहफा: अब ग्राहकों को मिलेंगे लाखों के फायदे, तुरंत जानें

EMI पर मिलेगी छूट-

बता दें कि RBI ने रेपो रेट में कटौती की है जिसके बाद SBI ने MCLR पर आधारित लोन की दरें घटा ली हैं। अब हर महीने आपको EMI पर 0.10 प्रतिशत की छूट मिलेगी।

साथ ही MCLR बढ़ाए या घटाए जाने का असर लोन लेने वाले ग्राहकों पर पड़ता है। साथ ही इसका असर उन ग्राहकों पर भी पड़ता है जिन लोगों ने 2016 के बाद लोन लिया हो।

दरअसल, 2016 से पहले RBI द्वारा लोन देने के लिए तय मिनिमम रेट, बेस रेट कहलाती थी। इस वजह से बैंक इससे कम दर पर ग्राहकों को लोन नहीं दे सकते थे।

यह भी पढ़ें: SBI ने होम लोन और एफडी की ब्याज दरों में कटौती का ऐलान किया

बैकों में MCLR के आधार पर ही मिलता है लोन-

इसके बाद 1 अप्रैल 2016 के बाद से बैंकों में MCLR लागू हो गई है, जिससे यह लोन के लिए मिनिमम दर बन गई है। इसके बाद से बैंकों में MCLR के आधार पर ही लोन दिया जाता है।

इस बार MCLR की दरों में कटौती करने के साथ ही SBI ने 2019-2020 सत्र में पांचवी बार MCLR की दरों में कटौती की है।

इससे पहले प्रोसेसिंग फीस भी हटा चुका है SBI-

इससे पहले हाल ही में SBI ने कार लोन पर प्रोसेसिंग फीस हटा दी है। इससे ग्राहकों को काफी फायदा होगा। दरअसल, प्रोसेसिंग फीस वो है जो आपके लोन अप्लाई करते वक्त बैंक आपसे लोन लेने पर वसूलता है।

बता दें कि पर्सनल लोन का ऑफर दो तरह का होता है। एक में आपको प्रोसेसिंग फीस देनी होती है, जिसमें 2 से 3 प्रतिशत चार्ज लगता है। दूसरा वो है जिसमें आपको अपने सभी जरुरी दस्तावेज की कॉपी देनी होती है।

यह भी पढ़ें: SBI का तोहफा: अब ग्राहकों को मिलेगा ये बम्पर ऑफर