SBI का GDP ग्रोथ चार्ट रिपोर्ट कर रहा है अगाह, समय रहते हो जाए सावधान

SBI ने एक रिपोर्ट जारी करके वर्तमान वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के जीडीपी ग्रोथ 4.2 फीसदी रहने का अनुमान लगाया है। SBI  की रिपोर्ट में ऑटोमोबाइल बिक्री में गिरावट, एयर ट्रैफिक मूवमेंट में कमी, कोर सेक्‍टर ग्रोथ के घटने और कंस्‍ट्रक्‍शन व इन्‍फ्रास्‍ट्रक्‍चर में निवेश घटने के कारण देश की जीडीपी ग्रोथ में कमी देखने को मिलेगी।

Published by suman Published: November 12, 2019 | 10:11 pm

जयपुर:SBI ने एक रिपोर्ट जारी करके वर्तमान वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के जीडीपी ग्रोथ 4.2 फीसदी रहने का अनुमान लगाया है। SBI  की रिपोर्ट में ऑटोमोबाइल बिक्री में गिरावट, एयर ट्रैफिक मूवमेंट में कमी, कोर सेक्‍टर ग्रोथ के घटने और कंस्‍ट्रक्‍शन व इन्‍फ्रास्‍ट्रक्‍चर में निवेश घटने के कारण देश की जीडीपी ग्रोथ में कमी देखने को मिलेगी।

 

यह पढ़ें…टेलीकॉम की रफ्तार में पीछे हुआ वोडाफोन, CEO ने कही ये बड़ी बात

 

जून तिमाही में देश की जीडीपी ग्रोथ पहले से घटकर निचले स्तर 5 फीसदी पर आ गई थी। इस रिपोर्ट में  SBI ने वित्‍त वर्ष 2020 के लिए ग्रोथ का अनुमान लगाया है। जो पहले के 6.1 फीसदी से कम करके अब 5 फीसदी कर दिया गया है।

SBI सहित अन्य वैश्विक एजेंसियों ने भी देश की विकास दर को मौजूदा वर्ष में कम रहने की आशंका जताई थी।सोमवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, इस महीने में आईआईपी में 4.3 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई,  लेकिन सितंबर, 2018 में आईआईपी में 4.6 फीसदी की बढ़त देखने को मिली थी।

 

यह पढ़ें…आ गया किसानों का एप! सीएम योगी के इस फैसले से किसानों को मिलेगा बड़ा लाभ

 

SBI ने रिपोर्ट में यह भी कहा कि इस बात की उम्मीद की जा रही है कि जीडीपी में कमी को देखते हुए रिजर्व बैंक दिसंबर में मॉनिटरी पॉलिसी में रेट कम कर सकता है। SBI ने रिपोर्ट में पॉलिसी सरप्राइसेज में सरकार को चेतावनी दी है और कहा कि, इस वक्त जरूरी है कि सरकार टेलीकॉम, पॉवर और एनबीएफसी सेक्टरों में कोई नेगेटिव पॉलिसी लागू न करे।