Top

शाहीन बाग बच्चे की मौत पर SC ने सरकार को जारी किया नोटिस

बता दें कि शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून और एनपीआर के खिलाफ देश की राजधानी दिल्ली के शाहीन बाग में पिछले 58 दिन से प्रदर्शन चल रहा है। इसी दौरान एक चार माह के बच्चे की मौत हो गई थी। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले का खुद संज्ञान लिया था।

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 10 Feb 2020 8:02 AM GMT

शाहीन बाग बच्चे की मौत पर SC ने सरकार को जारी किया नोटिस
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: दिल्ली के शाहीन बाग में चल रहे विरोध प्रदर्शन के दौरान एक बच्चे की मौत पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और दिल्ली सरकार को नोटिस जारी किया है। बता दें कि शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून और एनपीआर के खिलाफ देश की राजधानी दिल्ली के शाहीन बाग में पिछले 58 दिन से प्रदर्शन चल रहा है। इसी दौरान एक चार माह के बच्चे की मौत हो गई थी। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले का खुद संज्ञान लिया था।

शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों को हटाने पर भी हुई सुनवाई

इसके साथ SC ने शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों को हटाने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने आज सुनवाई की। सुप्रीम कोर्ट ने शाहीन बाग मामले में कहा कि सार्वजनिक जगह पर अनंतकाल काल तक विरोध करना ठीक नहीं है। SC ने प्रदर्शनकारियों से कहा कि विरोध करें लेकिन सार्वजनिक जगह का इस्तेमाल न करें। हालांकि SC ने प्रदर्शनकारियों को हटाने को लेकर अभी तक कोई आदेश नहीं दिया है। अब शाहीन बाग मामले में अगली सुनवाई सोमवार, 17 फरवरी को होगी।

ये भी पढ़ें—बुर्के पर बवाल! यूपी के इस मंत्री ने पार की हदें, कहा- जूतों से मारेंगे…

मामले में अंतरिम आदेश देने से SC का इंकार

सुप्रीम कोर्ट इस मामले में अंतरिम आदेश देने से इंकार कर दिया है। वहीं SC ने पुलिस और सरकार को मामले में नोटिस भेजा है और एक हफ्ते में जवाब देने को कहा है। प्रदर्शनकारियों को SC ने कहा है कि विरोध करें लेकिन सार्वजनिक स्थल का प्रयोग न करें। बता दें कि पिछले करीब 2 महीने से चल रहे धरना-प्रदर्शन के चलते कालिंदी कुंज-शाहिन बाग का रास्ता बंद है।

स्थानीय लोगों को हो रही दिक्कतें

जिस वजह से स्थानीय लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। सुप्रीम कोर्ट में जो याचिका दाखिल की गई है, उसमें दिल्ली को नोएडा से जोड़ने वाली सड़क से होने वाली दिक्कत की बात कही गई है और रास्ते को खोले जाने की अपील की गई है। प्रदर्शन कर रहे लोगों की मांग है कि जब तक केंद्र सरकार CAA वापस नहीं ले लेती, तब तक वो वहां से नहीं उठेंगे।

ये भी पढ़ें—यूपी वालों को 2500 प्रति माह! युवाओं में खुशी की लहर, योगी सरकार का बड़ा एलान

15 दिसंबर से जारी है विरोध प्रदर्शन

15 दिसंबर से ही सैकड़ों की संख्या में महिलाएं और बच्चे CAA और NRC के खिलाफ धरने पर बैठे हुए हैं। तब से ही कालिंदी कुंज-शाहिन बाग का रास्ता बंद है। जिससे लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। एक ओर जहां प्रदर्शनकारी सीएए को वापस लेने की मांग कर रहे तो वहीं दूसरी ओर केंद्र सरकार ने भी सीएए को वापस लेने से साफ इंकार कर दिया है।

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story