×

सुरक्षा बलों को मिली कश्मीर में 2 आतंकियों की सूचना, इस वजह से रुका सर्च ऑपरेशन

उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के लालपोरा लोलाब इलाके में बुधवार की शाम दो आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिलने पर सुरक्षा बलों की संयुक्त टीम ने कार्डन एंड सर्च ऑपरेशन चलाया। रात हो जाने के बाद अभियान को रोक दिया गया है।

suman

sumanBy suman

Published on 30 Jan 2020 6:51 AM GMT

सुरक्षा बलों को मिली कश्मीर में 2 आतंकियों की सूचना, इस वजह से रुका सर्च ऑपरेशन
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

श्रीनगर: उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के लालपोरा लोलाब इलाके में बुधवार की शाम दो आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिलने पर सुरक्षा बलों की संयुक्त टीम ने कार्डन एंड सर्च ऑपरेशन चलाया। रात हो जाने के बाद अभियान को रोक दिया गया है।

यह पढ़ें...बिहार के बेतिया में कन्हैया कुमार को पुलिस ने किया गिरफ्तार

खबर है कि सुरक्षा बलों को सूचना मिली थी कि लोलाब इलाके में दो आतंकी छिपे हुए हैं। इसके बाद शाम लगभग सात बजे जम्मू-कश्मीर पुलिस के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप, 28वीं राष्ट्रीय राइफल्स व सीआरपीएफ की संयुक्त टीम ने इलाके को घेर लिया।

घर-घर तलाशी अभियान की शुरूआत के थोड़ी देर बाद सुबह तक के लिए इस अभियान को स्थगित कर दिया गया। इस दौरान इलाके में सर्च लाइट्स लगा दी गई हैं ताकि रात में आतंकियों के मूवमेंट पर नजर रखी जा सके।

साल के शुरुआत में ही दक्षिणी कश्मीर में हिजबुल के हिजबुल कमांडर हम्माद खान समेत अब तक संगठन के नौ आतंकी मारे जा चुके हैं। सुरक्षा बलों की पेट्रोलिंग टीम पर हमला करने वाले आतंकी को तीन घंटे के भीतर दक्षिणी कश्मीर के अनंतनाग जिले के आरवानी में सोमवार की देर शाम मुठभेड़ में मार गिराया गया। मारे गए आतंकी से हथियार और गोला बारूद बरामद किए गए हैं। इसमें एक जवान भी घायल हो गया।

सोमवार शाम आरवानी इलाके में सुरक्षा बलों की पेट्रोलिंग पार्टी गश्त पर थी। इसी दौरान घात लगाए आतंकी ने पेट्रोलिंग पार्टी को निशाना बनाकर अंधाधुंध फायरिंग की। इसके बाद वह मौके से फरार हो गया। घटना के बाद सुरक्षा बलों ने पूरे इलाके को घेर लिया।

इस दौरान एक घर में आतंकी के छिपे होने की सूचना मिली। उसे समर्पण करने के लिए कहा गया, लेकिन वह नहीं माना। घेरा सख्त होता देख आतंकी ने फायरिंग शुरू कर दी। लगभग दो घंटे चली मुठभेड़ में जवानों ने एक आतंकी को मार गिराया। मारे गए आतंकी की शिनाख्त हिजबुल मुजाहिदीन के शाहिद अहमद डार (निवासी रेडवानी कुलगाम) के रूप में हुई है।

यह पढ़ें...शाहीन बाग की आड़ में राजनेता देश विरोधी नारे दे रहे हैं: स्मृति ईरानी

इस इस समय चला अभियान

7 जनवरी को साल 2020 की पहले मुठभेड़ में दक्षिणी कश्मीर के अवंतीपोरा में हिजबुल के आतंकी शाहिद अहमद को सुरक्षा बलों ने मार गिराया। वह कुछ दिन पहले ही आतंकवाद में शामिल हुआ था।

12 जनवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा के त्राल में सेना ने मुठभेड़ के दौरान तीन आतंकियों को मार गिराया। मारे गए इन आतंकियों में हिजबुल का टॉप कमांडर हम्माद खान शामिल है।

13 जनवरी सोमवार को सुरक्षा बलों ने बडगाम में हिजबुल मुजाहिदीन के एक आतंकी आदिल गनेई को मार गिराया था।

15 जनवरी को भारतीय सेना ने हिजबुल मुजाहिद्दीन के जिला कमांडर हारुन हाफज को डोडा में एक मुठभेड़ में मार गिराया।

16 जनवरी को किश्तवाड़ में संघ और भाजपा नेताओं का हत्यारा हिजबुल मुजाहिदीन का टॉप कमांडर हारुन अब्बास वानी डोडा के गुंदना टांटना इलाके में पुलिस मुठभेड़ में मार गिराया गया।

27 जनवरी को शाहिद अहमद डार आरवानी इलाके में हिजबुल मुजाहिदीन के शाहिद अहमद डार को मार गिराया गया।

suman

suman

Next Story