×

कांग्रेस के इस कद्दावर नेता ने बजट को सराहा, कही ये बड़ी बात

आम बजट 2020 पेश होने के बाद सत्ता पक्ष जहां इसे ऐतिहासिक बताकर अपनी पीठ थपथपा रहा है तो वहीं विपक्ष बजट को निराशाजनक बताकर सरकार पर निशाना साध रहा है।

Deepak Raj

Deepak RajBy Deepak Raj

Published on 1 Feb 2020 10:52 AM GMT

कांग्रेस के इस कद्दावर नेता ने बजट को सराहा, कही ये बड़ी बात
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली। आम बजट 2020 पेश होने के बाद सत्ता पक्ष जहां इसे ऐतिहासिक बताकर अपनी पीठ थपथपा रहा है तो वहीं विपक्ष बजट को निराशाजनक बताकर सरकार पर निशाना साध रहा है। लेकिन कांग्रेस सांसद और पूर्व मंत्री शशि थरूर ने कहा है कि इस बजट से देश के मध्यम वर्ग को थोड़ी राहत मिली है

ये भी पढ़ें- यहां जानें पूरा बजट: क्या हुआ महंगा और क्या हो गया सस्ता

थरूर ने नए टैक्स छूट पर कहा कि इससे आम मध्यम वर्ग को थोड़ी राहत मिलेगी। हालांकि पूरे बजट से वह ज्यादा खुश नजर नहीं आए। बातचीत में उन्होंने कहा, इस बजट में पुराने नारों की रीपैकेजिंग है। उन्होंने बजट पर व्यंग्य करते हुए कहा, हम स्टैंड अप इंडिया से सिट डाउन इंडिया की ओर जा रहे हैं।

विपक्ष के दूसरे नेताओं ने अपनी प्रतिक्रिया दी

आम बजट पर विपक्ष के दूसरे नेताओं ने अपनी प्रतिक्रिया दी। ज्यादातर ने इसे निराश करने वाला बताया। विपक्ष ने बजट के लिए सरकार पर साधा गांधी ने बजट 2020-21 पर कहा, भारत के सामने आज मुख्य मुद्दा बेरोज़गारी और अर्थव्यवस्था की हालत है। इस पर कोई केंद्रीय ठोस रणनीतिक योजना इस बजट में नहीं थी। इतिहास में सबसे लंबा बजट था, परन्तु उसमें कुछ था नहीं सिर्फ खोखले वादे थे।

सबसे लंबा बजट भाषण देने वाली वित्त मंत्री बनी निर्मला सीतारमण

अखिलेश यादव ने बजट को देश के किसानों और नौजवानों को निराश किया

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा, बजट ने देश के किसानों और नौजवानों को निराश किया है। उत्तर प्रदेश जहां सरकार खुद स्वीकार करती है कि नई पीढ़ी सबसे ज्यादा है, लेकिन नई पीढ़ी के सपनों को पूरा करने के लिए क्या है इनके पास। कहां है नौकरी, रोजगार और इन्वेस्टमेंट।

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल बोले, मुझे खुशी है कि वित्त मंत्री ने स्वीकार किया कि राजकोषीय घाटा 3.8% है। उनको देश को यह भी बताना चाहिए था कि अगर आप यूनियन और स्टेट का घाटा जोड़े तो यह 8 % से ज्यादा है जो देश के लिए चिंता की स्थिति है।

सत्ता पक्ष ने बजट को सराहा

केंद्रीय मंत्री समृति इरानी ने कहा, इंडस्ट्री के लिए एक ऐतिहासिक बजट है। आज एंटी डंपिंग जो MMF सेक्टर की बहुत बड़ी चुनौती थी, उसका समाधान देने के लिए मैं प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री जी का आभार व्यक्त करती हूं। कर में राहत मध्यमवर्गीय परिवारों के लिए दिवाली से कम नहीं।

केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल ने कहा, पहले की अपेक्षा काफी बड़ा है, स्कूली शिक्षा और उच्च शिक्षा दोनों के लिए पहले की अपेक्षा बढ़कर पर्याप्त बजट आया है।

ये भी पढ़ें- LIC खाताधारकों को तगड़ा झटका, बजट में सरकार ने किया ऐ ऐलान

मुख्तार अब्बास नक़वी ने बजट की तारीफ करते हुए कहा, ये बजट प्रैक्टिकल, परफोर्मिंग और पीपल फ्रेंडली बजट है, हम तूफान से कश्ती निकाल कर लाए हैं, जिस तरह की स्थिति थी, इस बजट में गांव, गरीब, किसान, खेत-खलिहान, नौजवान सबका ध्यान रखा गया है। यह देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने वाला बजट है।

Deepak Raj

Deepak Raj

Next Story