अब श्रीकृष्ण विराजमान पहुंचा अदालत, मांगा 13.7 एकड़ भूमि पर कब्जा

श्रीकृष्ण विराजमान की ओर से दायर की गई इस याचिका में श्रीकृष्ण विराजमान ने 13.37 एकड़ की कृष्ण जन्मभूमि का स्वामित्व मांगा है।

Published by Aradhya Tripathi Published: September 26, 2020 | 12:25 pm
Modified: September 26, 2020 | 12:27 pm
Shri Krishna Janmbhoomi

श्रीकृष्ण विराजमान ने खटखटाया अदालत का दरवाजा (फाइल फोटो)

मथुरा: अयोध्या में शीघ्र ही रामलला का भव्य मंदिर बन तैयार हो जाएगा। पिछले कई दशकों से चली आ रहे इस विवाद को खत्म कर अयोध्या मामले में राम लला विराजमान की जीत हुई। अयोध्या में राम लला को मिली ऐतिहासिक विजय के बाद अब अब भगवान कृष्ण के विराजमान और भव्य मंदिर की तैयारी की जा रही है। जिसके चलते अब मथुरा में श्रीकृष्ण विराजमान ने भी अदालत का दरवाजा खटखटाया है। मथुरा की अदालत में एक सिविल मुकदमा दायर कर श्री कृष्ण विराजमान ने अपनी जन्मभूमि मुक्त कराने की गुहार लगाई है।

श्रीकृष्ण विराजमान ने दायर की याचिका

अब श्रीकृष्ण विराजमान ने अपनी जन्मभूमि मुक्त कराने के लिए अदालत में एक याचिका दायर की है। श्रीकृष्ण विराजमान की ओर से दायर की गई इस याचिका में श्रीकृष्ण विराजमान ने 13.37 एकड़ की कृष्ण जन्मभूमि का स्वामित्व मांगा है। ये वो जमीन है जिस पर मुगल काल में कब्ज़ा कर शाही ईदगाह बना दी गई थी।

ये भी पढ़ें-    भारत से कांपे दुश्मन: हुआ हाईटेक मिशन में शामिल, चीन-पाकिस्तान की हालत खराब

Shri Krishna Janmbhoomi
श्रीकृष्ण विराजमान ने खटखटाया अदालत का दरवाजा (फाइल फोटो)

अब दायर की गई इस याचिका में शाही ईदगाह मस्जिद को हटाने की मांग की गई है। ये वाद भगवान श्रीकृष्ण विराजमान, कटरा केशव देव खेवट, मौजा मथुरा बाजार शहर की ओर से उनकी अंतरंग सखी के रूप में अधिवक्ता रंजना अग्निहोत्री और छह अन्य भक्तों ने दाखिल किया है।

सामने आ रही ये समस्या

Shri Krishna Janmbhoomi
श्रीकृष्ण विराजमान ने खटखटाया अदालत का दरवाजा (फाइल फोटो)

लेकिन इस मामले में कुछ समस्याएं भी सामने आ रही हैं। जैसे कि इस मामले में प्लेसेज ऑफ वर्शिप एक्ट 1991 इस मामले के आड़े आ रहा है। इस एक्ट के जरिये विवादित राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मुकदमेबाजी को लेकर मालकिना हक पर मुकदमे में छूट दी गई थी।

ये भी पढ़ें-    बॉलीवुड के गॉड फादर: देव आनंद ने इन एक्टर्स को दिया मौका, सभी रहे सुपर हिट

अलबत्ता, मथुरा-काशी समेत सभी धार्मिक या आस्था स्थलों के विवादों पर मुकदमेबाजी से रोक दिया गया था। अभी कुछ दिन पहले प्रयागराज में अखाड़ा परिषद की बैठक में साधु-संत मथुरा कृष्ण जन्मभूमि और काशी विश्वनाथ मंदिर को लेकर चर्चा की थी। इसमें संतों ने काशी-मथुरा के लिए लामबंदी शुरू करने की कोशि‍श की।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App