×

गजब का जुगाड़: 9वीं के छात्र ने कबाड़ से बनाई बाइक, हुनर ने दिलाया सम्मान

भारत अपने जुगाड़ वाले आईडिया के लिए जाना जाता है। देश के कम उम्र के बच्चे भी कुछ इनोवेटिव या कलात्मक कर बनाने की क्षमता रखते हैं। इसका एक उदाहरण मध्य प्रदेश के 9वीं क्लास में पढ़ने वाले छात्र ने दिया है।

Shivani

ShivaniBy Shivani

Published on 6 July 2020 5:22 PM GMT

गजब का जुगाड़: 9वीं के छात्र ने कबाड़ से बनाई बाइक, हुनर ने दिलाया सम्मान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

भोपाल: भारत अपने जुगाड़ वाले आईडिया के लिए जाना जाता है। देश के कम उम्र के बच्चे भी कुछ इनोवेटिव या कलात्मक कर बनाने की क्षमता रखते हैं। इसका एक उदाहरण मध्य प्रदेश के 9वीं क्लास में पढ़ने वाले छात्र ने दिया है। दरअसल, छात्र ने अपनी साइकिल को बाइक बना डाला।

साइकिल से बनाई इंजन वाली बाइक

मामला मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर जिले का है, जहां आमगांव बड़ा में रहने वाले अक्षय राजपूत नाम के बच्चे ने मोटर साइकिल चलाने के इच्छा होने पर खुद के लिए मोटरसाईकिल ही इजात कर दी। अक्षय राजपूत क्लास 9 का छात्र है। अन्य युवा लड़को की तरह उसे भी बाइक चाहिए थी लेकिन कम उम्र के कारण पिता ने बेटे को साइकिल दिला दी।

बाइक चलाने की चाहत को कबाड़ से किया पूरा

हलांकि इससे अक्षय की इच्छाएं थमी नहीं। उसने अपनी चाहत को पूरा करने के लिए लॉकडाउन के खाली समय का ऐसा इस्तेमाल किया कि उसकी चाहत तो पूरी हुई ही, आज हर कोई उसपर गर्व कर रहा है।

लॉकडाउन का किया छात्र ने ऐसे इस्तेमाल

लॉकडाउन के दौरान छात्र ने जुगाड़ कर साइकिल में ही इंजन लगाकर बाइक में कन्वर्ट कर दिया। इसके लिए अक्षय ने कबाड़ के सामान जुटाया। अक्षय ने कबाड़ी से पुराना चैम्प गाड़ी का इंजन लिया। इसके बाद उसने इस इंजन को साईकिल में जोड़ कर स्वचालित बना दिया।

ये भी पढ़ेंः आर्यन नर्वत: ऐसी शख्सियत जिसने लोगों को दी नई जिंदगी, समाज सेवा ही माना धर्म

कलेक्टर और विधानसभा अध्यक्ष कर चुके सम्मानित

वहीं जुगाड़ से साईकिल को बाइक बना कर जब अक्षय गाँव में निकला तो लोग उसके इस हुनर और लग्न की तारीफ़ करने लगे। वैसे अक्षय को कबाड़ के सामान से जुगाड़ वाली चीजे बनाने का शौक रहा। इसके पहले भी उसने टायर की बाइक बनाई थी। इसके लिए 26 जनवरी को उसे कलेक्टर और विधानसभा अध्यक्ष ने सम्मानित भी किया था।

ये भी पढ़ेंः 3 पुलिसकर्मियों की दर्दनाक मौत: हुआ भयानक हादसा, मौके पर ही तोड़ा दम

अक्षय के पिता का टेंट हाउस का छोटा सा व्यापार है। वह पिता की मदद तो करना चाहता ही है। साथ ही अपने हुनर से चाहतों को पूरा करना चाहता है।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani

Shivani

Next Story