Top

जम्मू कश्मीर के सभी मेडिकल कालेजों-हॉस्पिटलों में इंटरनेट सेवा बहाल हो: SC

नेशनल कांफ्रेंस के प्रवक्ता डॉ. समीर कौल ने राज्य में इंटरनेट और फोन सेवा बंद होने की वजह से स्वास्थ्य सेवाओं पर पड़ने वाले मुद्दे को कोर्ट के समक्ष उठाया था, जिसे लेकर सुप्रीम कोर्ट की ओर से केंद्र को इस तरह का निर्देश जारी किया गया है।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 30 Sep 2019 12:34 PM GMT

जम्मू कश्मीर के सभी मेडिकल कालेजों-हॉस्पिटलों में इंटरनेट सेवा बहाल हो: SC
X
सुप्रीम कोर्ट की फ़ाइल फोटो
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू कश्मीर में इंटरनेट और लैंडलाइन पर लगी पाबंदी के मामले में केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया और सरकार से तत्काल प्रभाव से पूरे जम्मू कश्मीर के सभी मेडिकल कालेज और हॉस्पिटल में इंटरनेट सेवा और लैंडलाइन सेवा को चालू करने के निर्देश दिए हैं।

नेशनल कांफ्रेंस के प्रवक्ता डॉ. समीर कौल ने राज्य में इंटरनेट और फोन सेवा बंद होने की वजह से स्वास्थ्य सेवाओं पर पड़ने वाले मुद्दे को कोर्ट के समक्ष उठाया था, जिसे लेकर सुप्रीम कोर्ट की ओर से केंद्र को इस तरह का निर्देश जारी किया गया है।

ये भी पढ़ें...जम्मू कश्मीर और अनुच्छेद 370 पर फिल्में बनाने को लेकर बॉलीवुड हुआ बेचैन

संवैधानिक बेंच देखेगी कश्मीर टाइम्स की संपादक का मामला

सुप्रीम कोर्ट में कश्मीर टाइम्स की संपादक अनुराधा भसिन द्वारा दायर याचिका में जम्मू कश्मीर में लगे प्रतिबंध हटाने की मांग और जम्मू कश्मीर में पत्रकारों और प्रेस के स्वतंत्र आवाजाही की मांग करने वाली याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने संवैधानिक बेंच के पास भेजा।

सुप्रीम कोर्ट ने ये भी साफ कर दिया गया है 370 से जुड़ी सभी याचिकाओं पर जस्टिस रमन्ना की अगुवाई वाली संवैधानिक पीठ की सुनवाई करेगी। इस प्रकार 1 अक्टूबर से जस्टिस रमन्ना की अध्यक्षता वाली संवैधानिक पीठ 370 के खिलाफ दायर सभी याचिकाओं पर सुनवाई करेगी।

ये भी पढ़ें...जम्मू कश्मीर राज्य पुनर्गठन बिल पास, जानिए क्या होगा अब

फारुख अब्दुल्ला को झटका

आज तमिलनाडु के राज्य‍ सभा सांसद वाइको द्वारा जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दु्ल्ला की गिरफ्तारी से जुड़ी याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया।

इस याचिका पर कोर्ट ने कहा कि क्योंकि अब पब्लिक सेफ्टी एक्ट के तहत हिरासत का ऑर्डर पास किया जा चुका है। इसलिए इस याचिका में सुनने के लिए कुछ नहीं बचा।

उच्चतम न्यायालय ने कहा कि एमडीएमके के नेता वाइको जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुक अब्दुल्ला की हिरासत को चुनौती देने के लिए नयी याचिका दायर कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें...विपक्षी दलों का जम्मू कश्मीर में आना ठीक नहीं: सत्यपाल मलिक

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story