×

सुषमा और स्वराज की प्रेम कहानी, सिर्फ दिल की सुनी और बनाया इन्हें हमसफर

बीजेपी की दिग्गज नेता और पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का मंगलवार रात दिल्ली के AIMS में हार्ट-अटैक के कारण उनका निधन हो गया। सुषमा स्वराज पिछले 30 सालों से बीजेपी के मुख्य महिला चेहरे के रूप में पहचानी जाती रहीं। हरियाणा के अंबाला में पैदा हुईं सुषमा स्‍वराज जितनी शानदार, बेबाक और जबरदस्‍त राजनेता और मंत्री रहीं, उससे कहीं संजीदा इंसान थीं।

Roshni Khan

Roshni KhanBy Roshni Khan

Published on 7 Aug 2019 7:27 AM GMT

सुषमा और स्वराज की प्रेम कहानी, सिर्फ दिल की सुनी और बनाया इन्हें हमसफर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: बीजेपी की दिग्गज नेता और पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का मंगलवार रात दिल्ली के AIMS में हार्ट-अटैक के कारण उनका निधन हो गया।

सुषमा स्वराज पिछले 30 सालों से बीजेपी के मुख्य महिला चेहरे के रूप में पहचानी जाती रहीं। हरियाणा के अंबाला में पैदा हुईं सुषमा स्‍वराज जितनी शानदार, बेबाक और जबरदस्‍त राजनेता और मंत्री रहीं, उससे कहीं संजीदा इंसान थीं।

हम आपको बता दें कि सुषमा स्वराज ने लव मैरिज की थी, वो भी अपने जमाने में, जब लड़कियों को पर्दे में रखा जाता था।

ये भी देखें:उन्नाव रेप केस: तीस हजारी कोर्ट में सुनवाई शुरू

लेकिन सुषमा और स्वराज को शादी करने के लिए खूब पापड़ बेलने पड़े थे। क्योंकि दोनों के परिवार वाले इस शादी के लिए तैयार नहीं थे।

क्योंकि उस समय प्रेम विवाह करना तो दूर, होने वाले दूल्हे की शकल भी नहीं दिखाई जाती थी।

लेकिन सुषमा स्वराज ने हिम्मत दिखाई थी और जैसे-तैसे परिवार को मनाकर शादी रचाई।

ये भी देखें:आर्टिकल 370 पर सुषमा स्वराज ने इस रणनीति का पहले ही किया था खुलासा

कॉलेज में शुरू हुई थी दोनों की प्रेम कहानी

सुषमा स्वराज के पति का नाम स्वराज कौशल है।

सुषमा और स्वराज की प्रेम कहानी पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ के लॉ डिपार्टमेंट में शुरू हुई थी।

वहां दोनों पहली बार मिले, मुलाकातों का दौर शुरू हुआ था।

सुषमा और स्वराज को उनकें कॉलेज के दिनों में प्यार हुआ था।

13 जुलाई 1975 को दोनों शादी के बंधन में बंधे थे।

स्वराज कौशल सुप्रीम कोर्ट के जाने-माने लॉयर हैं।

उन्हें सिर्फ 34 साल की उम्र में देश का सबसे युवा एडवोकेट जनरल बना दिया गया था।

स्वराज कौशल 37 साल की उम्र में मिजोरम के गवर्नर भी बन गए थे। वे 1990 से 1993 तक उस पद पर रहे।

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story