कर सलाहकार ने थर्ड फ्लोर से कूदकर दी जान, जीएसटी चोरी में पड़ा था छापा

वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) चोरी के करीब 20 करोड़ रुपये के मामले में प्रदेश वस्तु एवं सेवा कर (एसजीएसटी) विभाग की जांच के घेरे में एक कर सलाहकार आ गया।

इंदौर: वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) चोरी के करीब 20 करोड़ रुपये के मामले में प्रदेश वस्तु एवं सेवा कर (एसजीएसटी) विभाग की जांच के घेरे में एक कर सलाहकार आ गया। इस पर कर सलाहकार ने गुरुवार को एक आवासीय इमारत से कथित तौर पर छलांग लगाकर जान दे दी।

ये भी पढ़ें…जानें क्यों कानूनी विवादों में उलझ गया प्रयागराज में बनने वाला जीएसटी अधिकरण?

जावरा कंपाउंड के आवासीय अपार्टमेंट में दी जान

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) रुचिवर्धन मिश्र ने बताया कि जावरा कंपाउंड क्षेत्र के एक आवासीय अपार्टमेंट में रहने वाले कर सलाहकार गोविंद अग्रवाल (45) ने इस इमारत की तीसरी मंजिल से कथित तौर पर कूद कर जान दे दी।

मिश्र ने बताया, ‘हमें अब तक अग्रवाल का सुसाइड नोट नहीं मिला है। हालांकि, उनके परिवारवालों का कहना है कि जीएसटी चोरी के मामले में हाल ही में उनके घर छापा मारा गया था। तब से वह परेशान चल रहे थे।’ उन्होंने कहा कि मामले की जांच की जा रही है।

ये भी पढ़ें…काम की खबर: सरकारी पोर्टल पर मिलेगी जीएसटी ई- चालान निकालने की सुविधा

मानसिक दबाव हो सकती है वजह

वहीं, अग्रवाल के बेटे उमेश ने कहा कि, ‘संभवतः कुछ लोगों द्वारा बनाए गए मानसिक दबाव के कारण मेरे पिता ने आत्महत्या की। वह जीएसटी विभाग के छापे के बाद से ही तनाव में थे।’

उधर, एसजीएसटी विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि महकमा शक्कर, लोहे, स्टील तथा वाहनों के कल-पुर्जों के कारोबार से जुड़े करीब 20 स्थानीय कारोबारियों के खिलाफ जांच कर रहा है जिन पर कुल मिलाकर 20 करोड़ रुपये की जीएसटी चोरी का आरोप है।

हालांकि, उन्होंने जीएसटी चोरी के मामले में अग्रवाल की भूमिका के बारे में नहीं बताया, लेकिन पुष्टि की कि कर सलाहकार के ठिकाने पर पिछले हफ्ते इसी मामले में छापा मारा गया था।

ये भी पढ़ें…हाईकोर्ट ने पूछा, प्रदेश में क्यों नहीं है जीएसटी अधिकरण