जंग की तैयारी! भारत और चीन में सीमा पर तनाव, जानिए किसमें कितना है दम

लद्दाख में अपने सैनिकों की तैनाती करके टकराव का माहौल बनाने वाले चीन को भारत हर मोर्चे पर उसी की भाषा में जवाब देगा। भारत ने हर मोर्चे पर चीन को करारा जवाब देने के लिए रणनीति तैयार कर ली है।

नई दिल्ली: लद्दाख में अपने सैनिकों की तैनाती करके टकराव का माहौल बनाने वाले चीन को भारत हर मोर्चे पर उसी की भाषा में जवाब देगा। भारत ने हर मोर्चे पर चीन को करारा जवाब देने के लिए रणनीति तैयार कर ली है। पिछले दो दिनों के दौरान दिल्ली में हुई उच्चस्तरीय बैठकों में व्यापार, कूटनीति और सैन्य आक्रामकता सहित हर मोर्चे पर चीन को जवाब देने की रणनीति तैयार कर ली गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सीडीएस जनरल बिपिन रावत और तीनों सेनाओं के प्रमुख लद्दाख में पैदा हुई संवेदनशील स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं।

तैयारियां तेज

तो वहीं चीनी राष्ट्रपति शी जिनफिंग ने अपनी सेना को जंग की तैयारी तेज करने के लिए कहा है। अब दोनों तरफ से टेंशन बढ़ गई है तो आईए जानते हैं किस देश में कितनी ताकत है। भारत और चीन में कौन कितना ताकतवर है।

यह भी पढ़ें…चीन से कम नहीं भारतः देखें दोनो के पास क्या क्या हैं हथियार

26 मई को पेश चीन का रक्षा बजट इस साल 179 बिलियन डॉलर रखा गया है। इतने बड़े रक्षा बजट के पीछे देश के सामने खड़ी चुनौतियों को बताया गया है। पिछले साल के मुकाबले में इसे 6.6 प्रतिशत बढ़ाया गया है। भारत की बात की जाए तो हमारे देश का रक्षा बजट साल 2020 के लिए 66.9 बिलियन डॉलर है। चीन का रक्षा बजट इसका 2.7 गुना ज्यादा है।

-चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी में फिलहाल 23 लाख कर्मचारी हैं, तो वहीं भारत में सैनिकों की संख्या 21 लाख 40 हजार है।

-पड़ोसी देश चीन के पास कुल 260 परमाणु हथियार है जबकि भारत के पास सिर्फ 110 परमाणु हथियार हैं।

यह भी पढ़ें…चीन को उसी की भाषा में जवाब देगा भारत, ड्रैगन के आगे किसी भी मोर्चे पर नहीं झुकेगा देश

दोनो एक दूसरे की जद में

-अगर युद्ध मिसाइलों की बात करें तो भारत और चीन एक दूसरे की जद में हैं। भारत के पास 5 हजार किलोमीटर तक मार करनेवाली अग्नि-5 मिसाइल है। चीन का अधिकतर हिस्सा इसकी रेंज में है। जबकि चीन के पास DF-41 मिसाइल है। चीन का दावा है कि यह 30 मिनट में अमेरिका पर हमला कर सकती है। इसकी रेंज 9,320 किलोमीटर है। इसे न्यूक्लियर हथियार ले जाने के लिए भी प्रयोग किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें…लद्दाख में तनाव: चीन को मिलेगा तगड़ा जवाब, सेनाओं ने PM मोदी को सौंपी रिपोर्ट

– चीन के पास 3,210 विमान हैं। जबिक भारत के पास 2,123 विमान। लड़ाकू विमानों की बात करें तो यह भारत के पास 538 हैं, वहीं चीन के पास 1,232 हैं। हेलिकॉप्टर भारत के पास कुल 722 वहीं चीन के पास 911 हैं।

भारत ने फ्रांस के साथ 36 राफेल विमान का सौदा किया है। इनमें से चार जुलाई के आखिर तक भारत आ सकते हैं जिसके बाद भारत और मजबूत होगा।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App