तिहरे हत्याकांड के आरोपी ने खुद को अदालत में मारी गोली, 4 पुलिसकर्मी सस्पेंड

मैनपुरी जिला अदालत  में सोमवार की दोपहर पेशी पर आए तिहरे हत्याकांड के आरोपी के पैर में संदिग्ध परिस्थितियों में गोली लग गई।अपर जिला जज चतुर्थ की अदालत में तिहरे हत्याकांड के आरोपी ने तमंचे से खुद को गोली मार ली।

Published by suman Published: January 6, 2020 | 9:08 pm

लखनऊ: मैनपुरी जिला अदालत  में सोमवार की दोपहर पेशी पर आए तिहरे हत्याकांड के आरोपी के पैर में संदिग्ध परिस्थितियों में गोली लग गई।अपर जिला जज चतुर्थ की अदालत में तिहरे हत्याकांड के आरोपी ने तमंचे से खुद को गोली मार ली। गोली पैर में लगने से हत्यारोपी घायल हो गया। वारदात से करीब पांच मिनट पहले ही अपर जिला जज अपने चैंबर में गए थे।

यह पढ़ें….देश में 20 लाख पात्र श्रमिकों का नवीनीकरणः स्वामी प्रसाद मौर्य

पुलिस का दावा है कि आरोपी ने खुद ही गोली मारी है। वहीं हत्यारोपी ने औंछा क्षेत्र निवासी युवक पर जमीन की रंजिश के चलते गोली मारने का आरोप लगाया है। मामले में एसपी ने लापरवाही बरतने पर चार इंस्पेक्टर सहित चार पुलिसकर्मी को निलंबित कर दिया है।

बता दें करहल थाना क्षेत्र के गांव जलालपुर निवासी मनीष यादव (32) पुत्र सुखराम यादव ने नौ अक्टूबर 2012 को जमीन विवाद में पिता सुखराम यादव, सौतेली मां सुषमा देवी और सौतेले भाई अभिषेक यादव की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस मामले में मनीष यादव के अलावा कल्लू, कमलेश पुत्र तिलक सिंह निवासी गांव आलमपुर भरथना इटावा और वीरेंद्र पुत्र तिलक सिंह निवासी गांव नगला वंशी बकेवर इटावा के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज हुई थी। पुलिस ने मनीष को 15 अक्टूबर 2012 को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। इसके बाद अन्य आरोपी भी जेल भेजे गए थे। सात साल से मनीष जिला कारागार में निरुद्ध चल रहा है। सोमवार को मनीष को जिला कारागार से पेशी पर लाया गया था।

यह पढ़ें….यूपी तक पहुंची जेएनयू हिंसा की चिंगारी, सैकड़ों छात्रों ने किया प्रदर्शन

एसपी ने कहा- आरोपी ने खुद अपने पैर में गोली मारी है, वह जूते में छिपाकर अदालत में तमंचा लाया था। यह तमंचा उसे किसने उपलब्ध कराया, इसकी पड़ताल हो रही है।एसपी अजय कुमार ने बताया कि, करहल थाना इलाके के जलालपुर गांव निवासी मनीष ने साल 2012 में पिता, सौतेली बहन व मां की हत्या की थी। सोमवार दोपहर उसे जेल से जिला अदालत में पेशी पर लाया गया। अभी वह अदालत के भीतर था, तभी उसने खुद के पैर पर गोली मार ली। वह तमंचा जूते में छिपाकर अदालत में लाया था।

यह पढ़ें….जेएनयू हिंसा: कांग्रेस का बीजेपी पर हमला, कही ये बड़ी बात

इस बात तस्दीक मौके पर मौजूद दो अन्य बंदियों ने की है।  अदालत में फायरिंग की सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची। घायल आरोपी मनीष को जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया। उससे पूछताछ जारी है। एसपी ने कहा कि उसके पास तमंचा कहां से आया है, इसकी जांच कर दोषी पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।  वहीं, इस मामले में आईजी एलओ प्रवीण कुमार ने कहा- प्राथमिक जांच में लापरवाही बरतने के कारण एक इंस्पेक्टर, दो सिपाही, एक एलआईयू कर्मी, कुल चार लोगों को सस्पेंड कर दिया गया है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App