×

Triple Talaq Bill Rajya Sabha: मोदी सरकार की जीत, पास हुआ तीन तलाक बिल

लोकसभा में पास होने के बाद तीन तलाक को अपराध बनाने वाला बिल अब राज्यसभा में भी पास हो गया। इसी के साथ आज यानी मंगलवार को संसद ने इतिहास रच दिया। इस बिल में तीन तलाक को गैर कानूनी बनाते हुए 3 साल की सजा और जुर्माने का प्रावधान शामिल किया गया है।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 30 July 2019 1:11 PM GMT

Triple Talaq Bill Rajya Sabha: मोदी सरकार की जीत, पास हुआ तीन तलाक बिल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: लोकसभा में पास होने के बाद तीन तलाक को अपराध बनाने वाले बिल अब राज्यसभा में भी पास हो गया। इसी के साथ आज संसद ने इतिहास रच दिया। इससे पहले तीन तलाक बिल को सेलेक्ट कमेटी को भेजने वाले सभी बड़े प्रस्ताव गिर गए। राज्यसभा में पक्ष में 99 वोट पड़े, तो वहीं खिलाफ 84 वोट पड़े। अब इसे राष्ट्रपति के पास भेजा जाएगा और उनकी मंजूरी के बाद यह कानून का रूप लेगा।

इस बिल में तीन तलाक को गैर कानूनी बनाते हुए 3 साल की सजा और जुर्माने का प्रावधान शामिल किया गया है। लोकसभा से यह बिल बीते 26 जुलाई को यह बिल पास हो चुका था। राज्यसभा में चर्चा के दौरान बीजेपी की सहयोगी पार्टी जेडीयू, एआईएडीएमके, टीआरएस पीडीपी और बीएसपी ने सदन बिल का विरोध करते हुए सदन से वाॅकआउट कर गईं। इन सभी पार्टियों ने बिल पर वोटिंग से पहले ही राज्यसभा से वाॅकआउट कर दिया। राज्यसभा में विपक्ष के बिखराव का फायदा सरकार को मिला।

इस बिल चर्चा का जवाब देते हुए केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सांसदों का आभार जताते हुए कहा कि पैगम्बर साहब ने हजारों साल पहले इसे गलत बता दिया था, लेकिन हम 2019 में इस पर बहस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि विपक्ष के लोग 'लेकिन' के साथ तीन तलाक को गलत बता रहे हैं, क्योंकि ये लोग इसे चलने देना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें...कांग्रेस को बड़ा झटका, संजय सिंह का पार्टी से इस्तीफा, BJP में होंगे शामिल

प्रसाद ने कहा कि गुलाब नबी जी अपनी पार्टी के अच्छे काम भी भूल गए। उन्होंने कहा कि दहेज कानून को गैर जमानती बनाया तब किसी के जेल जाने की चिंता क्यों नहीं हुई। आपकी ओर से प्रगतिशील कानून लाए गए उनका विरोध नहीं हुआ, लेकिन शाहबानो के मामले में कांग्रेस के पैर क्यों हिलने लगते हैं, इसका जवाब आजाद साहब को देना चाहिए।

यह भी पढ़ें...उन्नाव रेप पीड़िता सड़क हादसे में बड़ा ख़ुलासा, सपा नेता से जुड़े हैं घटना के तार

इससे पहले कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि यह बिल डिस्ट्रक्शन ऑफ मुस्लिम मेन बिल है। इस बिल के जरिए किसी मुसलमान पुरुषों को प्रताड़ित करने का तरीका निकाला जा रहा है। अपने ही हाथों अपना घर जलाने की कायवाद की जा रही है।

यह भी पढ़ें...CCD: 7000 करोड़ रुपये बनी मालिक के गायब होने की वजह, ड्राइवर ने बताई आप-बीती

शिव सेना नेता संजय राउत ने कहा कि मुस्लिम महिलाएं पर्सनल लॉ की चक्की में पिस रही हैं। इस बिल के पास होने से सेक्युलरिज्म कमजोर नहीं मजबूत होगा।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story