Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

कांग्रेस के बुरे दिन, क्या चिदंबरम और शिवकुमार के बाद कमलनाथ भी जाएंगे जेल?

देश की जांच एजेंसियों ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम, डी. के. शिवकुमार जैसे नेताओं के खिलाफ शिकंजा कस दिया है। कांग्रेस के ये दोनों नेता न्यायिक हिरासत में हैं। इस बीच पार्टी के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के खिलाफ भी कानून का शिकंजा कस सकता है।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 9 Sep 2019 3:50 PM GMT

कांग्रेस के बुरे दिन, क्या चिदंबरम और शिवकुमार के बाद कमलनाथ भी जाएंगे जेल?
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: देश की जांच एजेंसियों ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम, डी. के. शिवकुमार जैसे नेताओं के खिलाफ शिकंजा कस दिया है। कांग्रेस के ये दोनों नेता न्यायिक हिरासत में हैं। इस बीच पार्टी के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के खिलाफ भी कानून का शिकंजा कस सकता है।

बता दें कि मध्य प्रदेश कांग्रेस में पहले से ही रार मची हुई है। अब कमलनाथ के लिए एक और बुरी खबर है। गृह मंत्रालय उनके खिलाफ 1984 सिख विरोधी दंगों के मामले को दोबारा खोल दिया है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ पर कथित रुप से सिख विरोधी दंगों में शामिल होने का आरोप है।

यह भी पढ़ें...खुफिया जांच में खुलासा: भारत को दहलाने के लिए पाक ने रची ये खौफनाक साजिश

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कमलनाथ के खिलाफ 1984 के सिख विरोधी दंगों के केस को एक बार फिर से खोलने के प्रस्ताव को मंजूरी दी है। दिल्ली के शिरोमणि अकाली दल विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने ट्वीट कर यह जानकारी दी।

गौरतलब है कि 2018 के मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के बाद कमलनाथ ने मुख्यमंत्री का पद संभाला था, तब भी उनके खिलाफ 1984 सिख विरोधी दंगों के आरोपों के मामले को बीजेपी और अकाली दल ने जोर शोर से उठाया था।

मनजिंदर सिंह सिरसा ने ट्वीट कर कहा कि अकाली दल के लिए एक बड़ी जीत। 1984 में सिखों के नरसंहार में कमलनाथ के कथित तौर पर शामिल होने के मामलों को SIT ने दोबारा खोला।

यह भी पढ़ें...हरियाणा में कांग्रेस-बसपा गठबंधन पर लगा ब्रेक, सतीश मिश्रा ने कही ये बड़ी बात

उन्होंने कहा कि पिछले साल मैंने गृह मंत्रालय से अनुरोध किया था जिसके बाद मंत्रालय ने कमलनाथ के खिलाफ ताजा सबूतों पर विचार करते हुए केस नंबर 601/84 को दोबारा खोलने का नोटिफिकेशन जारी किया है।'

अकाली विधायक और दिल्ली सिख गुरुद्वारा मैनेजमेंट कमिटी (DSGMC) के प्रमुख सिरसा ने कहा कि SIT कमलनाथ के खिलाफ लगे आरोपों की जांच कर रही है। उन्होंने 1984 में दिल्ली स्थित रकाबगंज गुरुद्वारे में हुई हिंसा का खास जिक्र किया।

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा, 'केस को दोबारा खोलने के लिए मैं SIT को धन्यवाद देता हूं। जिन चश्मदीदों ने कमलनाथ को सिखों की हत्या करते देखा था, उन लोगों से मेरा अनुरोध है कि वे आगे आएं और गवाह बनें। डरने की कोई जरूरत नहीं है।'

यह भी पढ़ें...तिहाड़ जेल में बंद पी चिदंबरम ने अधिकारियों को लेकर कह दी ये बड़ी बात

अकाली नेता ने कहा कि जल्द ही कमलनाथ गिरफ्तार होंगे और सज्जन कुमार जैसे हश्र का सामना करेंगे।'

बता दें कि कांग्रेस से 3 बार सांसद रहे सज्जन कुमार 1984 के सिख विरोधी दंगों में अपनी भूमिका की वजह से उम्रकैद की सजा काट रहे हैं।

गौरतलब है कि कांग्रेस के कई बड़े नेताओं पर जांच एजेंसियों ने शिकंजा कस दिया है। भ्रष्टाचार और मनी लॉन्ड्रिंग के केस में पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम और कर्नाटक के दिग्गज डी. के. शिवकुमार जेल में हैं। अब सवाल खड़ा हो रहा है कि क्या कमलनाथ भी जेल जाएंगे।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story